अभी-अभी: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बदला एक और जगह का नाम

यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अयोध्या के रामकथा पार्क से बड़ा एलान किया। फैजाबाद जिला अब अयोध्या के नाम से जाना जाएगा। योगी ने कहा, अयोध्या हमारी आन-बान-शान का प्रतीक है। इसके साथ अन्याय हो ही नहीं सकता योगी ने एक और बड़ी घोषणा करते हुए कहा कि यहां पर एक मेडिकल कॉलेज बन रहा है। हम चाहते हैं कि यह कॉलेज भी यहां की परंपरा के अनुरूप हो इसलिए इसका नाम राजर्षि दशरथ मेडिकल कॉलेज होगा। वहीं, नगर में बनने वाले एयरपोर्ट का नाम भी योगी ने मर्यादा पुरुषोत्तम एयरपोर्ट होने की घोषणा की।

अभी-अभी: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने बदला एक और जगह का नाम योगी ने कहा कि पहले कोई मुख्यमंत्री अयोध्या नहीं आता था। मैं छह बार आ चुका हूं। अयोध्या भारत की संस्कृति और परंपरा का प्रतीक है और इसी से जुड़ने के लिए दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक यहां पर आई हुई हैं। मैं उनका आभार प्रकट करता हूं। इस आयोजन से भारत व दक्षिण कोरिया के संबंध मजबूत होंगे। योगी बोले, प्रथम महिला ने यहां आकर साबित कर दिया है कि अपनी संस्कृति से जुड़ने के लिए भााषा कभी भी आड़े नहीं आती है।

योगी ने बताया कि जब पहले मैं यहां आता था तो संत समाज के लोग सरयू नदी में गंदा नाला गिरने की शिकायत करते थे। जिस पर ध्यान देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नमामि गंगे योजना के तहत इस पर रोक लगा दी है। योगी बोले, अयोध्या को सुंदर व भव्य बनाने का कार्य किया जा रहा है। सरयू साफ हो रही है, घाटों का सुंदरीकरण किया जा रहा है और सड़कों को चौड़ा किया जा रहा है।

वहीं, दीपोत्सव आयोजन की मुख्य अतिथि दक्षिण कोरिया की प्रथम महिला किम जोंग सुक ने अपने संबोधन में कहा कि इस भव्य आयोजन में आकर मैं बहुत खुश हूं। मुझे यहां बुलाने के लिए मैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देती हूं। उन्होंने अपने भाषण में भारत व दक्षिण कोरिया के लोगों की समृद्घि की कामना की।

इस मौके पर मौजूद बिहार के राज्यपाल व लखनऊ के पूर्व सांसद लालजी टंडन ने कहा कि आज अयोध्या में हो रहे इस आयोजन का साक्षी बनकर हम सब धन्य हो गए। उन्होंने राम मंदिर का नाम लिए बिना कहा कि आप सब राम के प्रताप पर यकीन रखें हो सकता है कि अगले दीपोत्सव का आयोजन राम मंदिर के भव्य निर्माण के साथ हो।

केंद्रीय मंत्री वी के सिंह ने कहा कि अयोध्या में भव्य दीपोत्सव का आयोजन अतीत की एक झलक है। यह तो दूसरा वर्ष है जब अयोध्या में इस तरह का आयोजन किया जा रहा है। तीसरे, चौथे और पांचवे वर्ष में क्या होगा इसका इंतजार कीजिए। उन्होंने जय श्री राम कहकर अपने भाषण को खत्म किया।