अवैध वसूली में 10 पुलिस कर्मी लाइन हाजिर, शिकायतकर्ता भी निलम्बित


नोएडा : वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक से अवैध वसूली की शिकायत करना यातायात सिपाही को भारी पड़ गया। एसएसपी ने जांच के बाद न केवल शिकायतकर्ता को निलंबित कर दिया, बल्कि जिन 10 ट्रैफिक पुलिसकर्मियों की उसने शिकायत की थी, उन्हें भी लाइनहाजिर कर दिया। पिछले काफी समय से नोएडा में पुलिसकर्मियों द्वारा अवैध वसूली की शिकायतें बढ़ गई हैं। इसके चलते पिछले दिनों एसएसपी ने अवैध वसूली करने और ड्यूटी में लापरवाही बरतने वाले पुलिसकर्मियों पर कार्रवाई करने की चेतावनी दी थी। ट्रैफिक कांस्टेबल वीरेंद्र सिंह ने 10 पुलिसकर्मियों द्वारा अवैध वसूली की शिकायत एसएसपी डॉ. अजयपाल शर्मा से की। ट्रैफिक पुलिसकर्मी बाहर से आने वाले वाहनों की अवैध एंट्री कराते हैं। एंट्री के नाम पर 500 से 800 रुपये वसूलते हैं। विरोध करने पर वाहन चालकों के साथ मारपीट करते हैं। आम लोगों से भी बदसलूकी करने की शिकायतें की हैं। शिकायत मिलने पर एसएसपी ने आरोपी पुलिस वालों पर जांच बैठा दी। बुधवार को एसएसपी ने शिकायत करने वाले कांस्टेबल वीरेंद्र सिंह को निलंबित कर दिया।

एचसीपी दौलतराम यादव, एचसीपी ओम सिंह, एचसीपी योगेंद्र सिंह, एचसीपी तेजपाल राणा, कांस्टेबल विरेंद्र यादव, शिशुपाल यादव, अजयपाल यादव, अमरजीत, नरेंद्र सिंह और रविंद्र सिंह को लाइनहाजिर कर दिया। वहीँ, एसएसपी डॉ. अजयपाल शर्मा ने कहा कि अवैध वसूली और ड्यूटी में लापरवाही बरतने पर आरोपी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की गई है। लाइन हाजिर होने वाले पुलिसकर्मियों का जल्द ही बाहर जनपदों में तबादला किया जाएगा। नोएडा में पुलिस द्वारा अवैध वसूली की सूची सोशल साइट्स पर लीक हो गई थी। इसके चलते नोएडा पुलिस की खूब फजीहत हुई। इस मामले में आरोपी पुलिस वालों पर कार्रवाई कर अन्य जनपदों में तबादला कर दिया गया था। इसके अलावा कुछ दिनों पहले थाना सेक्टर-58 के प्रभारी समेत अन्य पर लाखों रुपये की घूस मांगने का आरोप लगा था जिसके बाद उन पर कार्रवाई हुई थी।
इन पुलिस वालों पर की गयी कार्रवाई
– एचसीपी दौलतराम यादव
– एचसीपी ओम सिंह
– एचसीपी योगेन्द्र सिंह
– एचसीपी तेजपाल राणा
– का. विरेन्द्र यादव
– का. शिशुपाल यादव
– का. अजयपाल यादव
– का. अमरजीत
– का. नरेन्द्र सिंह
– का. रवेन्द्र सिह
– वीरेंद्र सिंह (निलम्बित)