आईवीएफ तकनीक से पैदा हुए दुनिया के पहले टेस्ट ट्यूब शावक


नई दिल्ली : दक्षिण अफ्रीका की यूनिवर्सिटी ऑफ प्रिटोरिया के वैज्ञानिकों ने एक अभूतपूर्व कामयाबी हासिल की है। उन्होंने यहां के उकुटुला संरक्षण केंद्र में शेरनी पर आइवीएफ तकनीक का प्रयोग किया, जिसके बाद यहां दो टेस्ट ट्यूब शावक पैदा हुए। वैज्ञानिकों का मानना है विलुप्त होती इन प्रजातियों को बचाने में यह तकनीक मील का पत्थर साबित होगी। 1980 में अमेरिका स्थित पेंसिलवेनिया विश्वविद्यालय के पशु चिकित्सकों ने दुनिया का पहला गाय का टेस्ट ट्यूब बच्चा पैदा कराने में सफलता हासिल की थी। वैज्ञानिकों ने इन-विट्रो फर्टीलाइजेशन (आइवीएफ) तकनीक की मदद से एक शेर के स्पर्म को शेरनी के गर्भाशय में डाला।

इसके साढ़े तीन महीने बाद उसने एक शेरनी और एक शेर को जन्म दिया। दोनों शावक पूरी तरह स्वस्थ हैं। हालांकि इस तकनीक का प्रयोग अफ्रीकी शेरनी पर किया गया है, लेकिन वैज्ञानिकों का मानना है कि यह तकनीक बाघ, स्नो लेपर्ड (हिम तेंदुआ) और कई विलुप्त होती बड़ी बिल्लियों को बचाने में कारगर साबित हो सकती है। जंगलों की कटाई कर वहां इंसान द्वारा बनाए जा रहे आवास और अन्य दबावों के नुकसान के कारण वन्य जीवन के लिए जबरदस्त खतरा पैदा हो गया है। यही कारण है कि बड़ी बिल्लियों के साथ ही कई प्रजातियां लुप्तप्राय के रूप में सूचीबद्ध हैं। गुजरात के गिर के जंगलों में एशियाई शेर पाए जाते हैं। 2015 में 22 हजार वर्ग किलोमीटर में हुई गिनती के आधार पर शेरों की संख्या 523 दर्ज की गई। इसमें 109 शेर, 201 शेरनी और 213 शावक थे। अगस्त 2017 में हुई एशियाई शेरों की गणना के मुताबिक अब यह आंकड़ा 650 हो गया है।