आतंकी को मार गिराने वाला जांबाज बोला, सेना पर डाली बुरी नजर तो छोड़ेंगे नहीं

देहरादून : मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शौर्य चक्र प्राप्त मेजर रोहित शुक्ला को सम्मानित किया। इस दौरान मेजर रोहित शुक्ला ने कहा कि जो कोर्इ भी भारतीय सेना पर बुरी नज़र रखेगा उसे छोड़ूंगा नहीं। आपको बता दें कि मेजर रोहित ने ही कश्मीर में हिजबुल के कुख्यात आतंकी टाइगर को ढूंढकर मारा था। डालनवाला वेलफेयर सोयाटी व दून रेजिडेंशियल एसोसिएशन की ओर से सम्मान समारोह का आयोजन किया गया। जिसमें सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने शौर्य चक्र से प्राप्त मेजर रोहित शुक्ला को सम्मानित किया। इस दौरान सीएम ने कहा कि हर घर में मेजर शुक्ला पैदा हो ना चाहिए। वहीं इस दौरान मेजर शुक्ला ने कहा कि आतंकी अब भारतीय सेना के नाम से कांपते हैं। क्योंकि भातीय सेना उनसे डरती नहीं है और उनके हर सवाल का मुंहतोड़ जवाब देती है। उन्होंने कहा कि कहा कि मेरे कई साथी मुझसे भी बड़े वीर थे। वो आज हमारे बीच नहीं, शहीद वीरों को मेरा सम्मान समर्पित है। मेजर रोहित शुक्ला का देहरादून से खास लगाव है। ये बात उन्होंने सम्मान समारोह के दौरान कही। उनका कहना है कि उनका बचपन देहरादून में ही बीता है और शिक्षा भी दून में ही हुर्इ है। वहीं, सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने मेजर रोहित शुक्ला की वीरता और पराक्रम की तारीफ की। उन्होंने कहा कि रोहित शुक्ला ने प्रदेश का मान बढ़ाया। साथ ही मेजर रोहित शुक्ला को एक लाख रूपये की आर्थिक सहायता राशि देने की घोषणा की। मेजर रोहित शुक्ला को हिजबुल के कुख्यात आतंकी टाइगर ने चुनौती दी थी कि अगर उन्होंने अपनी मां का दूध पिया है तो वो सामने आए। टाइगर की इस बात से मेजर शुक्ला का खून खौल उठा और उन्होंने ठान ली कि वो उसे नहीं छोड़ेंगे और उन्होंने टाइगर को मारकर ये बात भी साबित कर दी कि भारतीय सेना का हर जवान फौलाद है।