उत्तर कोरिया को तेल देने के मामले में हॉन्ग कॉन्ग के जहाज के चालक दल से पूछताछ

उत्तर कोरियाई जहाज को तेल देने के मामले में दक्षिण कोरिया में हॉन्ग कॉन्ग के एक जहाज के चालक दल के सदस्यों को हिरासत में लेकर उनसे पूछताछ की जा रही है। आरोप है कि संयुक्त राष्ट्र के प्रतिबंधों का उल्लंघन कर नवंबर में हॉन्ग कॉन्ग के इस जहाज से उत्तर कोरियाई जहाज को तेल दिया गया था। सीमा-शुल्क अधिकारियों ने बताया कि 24 नवम्बर को येवसू बंदरगाह पर दक्षिण कोरियाई अधिकारियों ने ताइवानी कंपनी द्वारा अधिकृत जहाज लाइटहाउस विनमोर की घेराबंदी की थी।उत्तर कोरिया को तेल देने के मामले में हॉन्ग कॉन्ग के जहाज के चालक दल से पूछताछ

कोरिया कस्टम सर्विस के एक अधिकारी ने बताया, तब से जांचकर्ता जहाज पर आकर चालक दल के सदस्यों से पूछताछ कर रहे हैं। येवसू में अन्य सीमा-शुल्क अधिकारी ने बताया कि लाइटहाउस विनमोर में चालक दल के 25 सदस्य हैं, जिनमें 23 चीनी नागरिक और 2 म्यांमार के नागरिक हैं। बहरहाल उन्होंने यह स्पष्ट नहीं किया कि ये सभी चीन से हैं या हॉन्ग कॉन्ग से। ताइवानी कंपनी बिलियंस बंकर ग्रुप कॉरपोरेशन द्वारा अधिकृत टैंकर इससे पहले 11 अक्तूबर को येवसू पहुंचा था और ताइवान में अपने कथित गंतव्य स्थल की ओर रवाना होने से पहले जहाज में 14,000 टन जापानी रिफाइंड तेल लादा गया था।
सीमा शुल्क अधिकारी ने बताया कि ताइवान रवाना होने के बजाय येवसू लौटने से पहले चीनी अंतरराष्ट्रीय समुद्री क्षेत्र में जहाज से 600 टन तेल उत्तर कोरिया के सैम जोंग 2 को दिया गया था। इससे पहले सोल में विदेश मंत्रालय के एक अधिकारी ने बताया था कि सीमा-शुल्क अधिकारियों ने जहाज को जब्त कर इसकी जांच की। लाइटहाउस विनमोर उन 10 जहाजों में शामिल है जिन्हें अमेरिका ने सुरक्षा परिषद से काली सूची में डालने के लिए कहा है। इन सभी जहाजों पर उत्तर कोरिया के खिलाफ संयुक्त राष्ट्र प्रतिबंधों के उल्लंघन का आरोप है। इस बीच ताइवान के परिवहन मंत्रालय ने कहा कि वह इस बात की जांच कर रहे हैं कि इसमें कोई ताइवानी कंपनी शामिल है या नहीं।