एनआईए का बड़ा खुलासा, भारत में बन रही मस्जिद को पाक आतंकी सगठनो ने की फंडिंग

ऐसी खबरे मिली है की हरियाणा में पलवल के गांव उत्तावर में आतंकवादी फंड से मरकज नामक मस्जिद बनाई जा रही है। मामले में नेशनल इनवेस्टिगेशन एजेंसी (एनआईए) की टीम ने सलमान नाम के एक युवक और उसके दो साथियों के साथ दिल्ली से गिरफ्तार किया है। सलमान को मस्जिद का संचालक बताया जा रहा है। उत्तावर की इस मस्जिद के निर्माण में आतंकी हाफिज सईद की ओर से फंडिंग की भी खबर है।

पलवल: राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (एनआईए) की जांच में खुलासा किया है। कहा गया है कि हरियाणा के पलवल में स्थित एक मस्जिद के निर्माण के लिए लश्कर-ए-तैयबा ने फंड जारी किया था। यह मस्जिद पलवल जिले के उत्तावर गांव में है जिसका नाम खुलाफा-ए-रशीदीन है। हालांकि, गांव के प्रधान ने जांच रिपोर्ट को नकारा है। एनआईए अधिकारियों ने 3 अक्टूबर को जांच की थी। इसके तीन दिन बाद ही एजेंसी ने कथित टेरर फंडिंग के मामले में मस्जिद के इमाम मोहम्मद सलमान समेत 3 लोगों को गिरफ्तार किया था। इस मरकज मस्जिद में हर शुक्रवार आरोपी सलमान आता रहता था। इस मस्जिद के निर्माण में लगी करोड़ों रुपयों की धनराशि के बारे में सोमवार को कई घंटों तक एनआईए के अधिकारी लगातार पूछताछ करने में लगे रहे। इस मौके पर होडल डीएसपी मौके पर मौजूद रहे ताकि एनआईए टीम के साथ कोई वारदात न हो। एनआईए टीम की गिरफ्त में आया आरोपी सलमान उत्तावर गांव का मूल निवासी है। मस्जिद के इमाम को मोहम्मद सलमान को दुबई निवासी पाकिस्तानी नागरिक कामरान के नाम से 70 लाख का चेक मिला था। ऐसा माना जा रहा है कि कामरान आतंकी संगठन के लिए काम करता है और भारत में आतंकी गतिविधियों के लिए पैसा उपलब्ध कराता है। सलमान की गिरफ्तारी से मेवात के लोग आश्चर्य में पड़े हुए हैं। उनके साथ काम करने वाले लोग कुछ भी टिप्पणी करने को तैयार नहीं हुए। एनआईए सूत्रों के मुताबिक, सलमान को दिल्ली स्थित उसके निवास से गिरफ्तार किया गया। पुलिस उसे अपने साथ गांव में बनाई जा रही मजीद में लेकर आई और फंडिंग के बारे में जानकारी हासिल की। यहां के निवासियों ने बताया कि मस्जिद जिस जमीन पर बनी है, वह विवादित है लेकिन उन्हें सलमान के एलईटी से लिंक की जानकारी नहीं थी। एनआईए मस्जिद के पदाधिकारियों से पूछताछ कर रही है और दान-दस्तावेजों के विवरण जब्त कर लिए गए हैं। गांव के प्रधान रमेश प्रजापति ने कहा, ‘यह जमीन कानूनी तरीके से ली गई है और कई गांव के लोगों ने मिलकर इस मस्जिद को बनवाने के लिए फंड किया गया था।’ इस मामले में बताया जा रहा है कि अन्य दो लोग भी गिरफ्तार किए गए हैं। आरोपी सलमान से उटावड़ में बन रही मरकजी मस्जिद को लेकर शुरुआती पूछताछ हुई है। बताया जा रहा है कि उक्त मस्जिद में विदेश से आया पैसा खर्च किया गया है। एनआईए के कई अधिकारियों ने मस्जिद के दस्तावेजों को कई घंटों तक खंगाला और कुछ दस्तावेजों को एनआईए की टीम अपने साथ ले गई। एनआईए अपनी जांच में जानना चाह रही है कि मस्जिद और टेरर फंडिंग से जुड़े कई संस्थान, मदरसों और अन्य संस्थानों में संदिग्ध लेनदेन का कोई वास्ता तो नहीं है। इससे अन्य लोगों की गिरफ्तारी होने की भी संभावना है। टीम ने मस्जिद में मौजूद कई लोगों के बयान भी लिए। आतंकी संगठन लश्कर की यहां की मस्जिद और मदरसों में अवैध तरीके से की गई फंडिंग की आशंका है। हालांकि इस मामले पर टीम ने मीडिया से कोई बात नहीं की है।