ऑस्ट्रेलियन ओपन में फेडरर को हराना होगा मुश्किल, हालेप भी है प्रबल दावेदार

- in खेल

मेलबर्न। इस पर बहस की जा सकती है कि 36 वर्षीय, चार बच्चों के पिता रोजर फेडरर के लिए ग्रैंडस्लैम जीतना बड़ी बात है या नहीं। हालांकि, अगर वह अपना छठा ऑस्ट्रेलियन ओपन जीत लेते हैं, तो यह दो हफ्तों में उनकी दूसरी कामयाबी होगी। हाल ही में उन्होंने हॉपमैन कप के सभी मैच जीते थे।ऑस्ट्रेलियन ओपन में फेडरर को हराना होगा मुश्किल, हालेप भी है प्रबल दावेदार

ऑस्ट्रेलियन ओपन में फेडरर 19वीं बार मेलबर्न पार्क में मुख्य ड्रॉ खेलने उतरेंगे। पिछले साल घुटने की चोट से उबरने के बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलियन ओपन अपने नाम किया था। फिलहाल उनकी फिटनेस को लेकर कोई सवाल नहीं है और अगर सट्टेबाजों की मानें तो फेडरर के रहते टूर्नामेंट में भाग ले रहे 127 अन्य पुरुष खिलाड़ियों के लिए कोई उम्मीद नहीं है। फेडरर पहले राउंड के मैच में स्लोवेनिया के अलजाज बेडेने से टकराएंगे। जहां तक चुनौती का सवाल है तो अपना 20वां खिताब जीतने के लिए फेडरर को चोटों से सतर्क रहना होगा। 

हालेप का दावा मजबूत

गत विजेता सेरेना विलियम्स के इस साल ऑस्ट्रेलियन ओपन में भाग न लेने से महिला सिंगल्स की विजेता की भविष्यवाणी करना आसान नहीं है। टूर्नामेंट में बतौर विश्व नंबर एक खिलाड़ी भाग लेने वाली रोमनिया की सिमोना हालेप को इस साल खिताब का प्रबल दावेदार माना जा रहा है, हालांकि हालेप ने अभी तक कोई ग्रैंडस्लैम नहीं जीता है।

पिछले साल विंबलडन में जीत दर्ज कर दूसरा ग्रैंडस्लैम अपने नाम करने वाल स्पेन की गबाईन मुगुरुजा भी टूर्नामेंट में अपना दबदबा बरकरार रखना चाहेंगी। दूसरी वरीय कैरोलिन वोज्नियाकी और प्रतिबंध के बाद वापसी कर रही मारिया शारापोवा भी खिताब की प्रबल दावेदारों में होंगी।

ऑस्ट्रेलियन ओपन में मुख्य ड्रॉ के करीब पहुंचे युकी

युकी भांबरी ऑस्ट्रेलियन ओपन क्वालीफाइंग में प्रभावशाली प्रदर्शन कर तीसरे और अंतिम राउंड में पहुंच गए। उन्होंने दूसरे राउंड में स्पेन के कालरेस ताबेर्नर को सीधे सेटों में हराया। भांबरी ने पुरुषों के सिंगल्स क्वालीफायर्स के दूसरे राउंड में रैंकिंग में 183वें स्थान पर काबिज खिलाड़ी को 6-0, 6-2 से मात दी। विश्व रैंकिंग में 122वें स्थान पर काबिज 25 साल के भारतीय टेनिस खिलाड़ी युकी भांबरी ने 57 मिनट चले इस एकतरफा मुकाबले से 54 अंक हासिल किए।

मुख्य ड्रॉ में जगह बनाने के लिए तीसरे राउंड में भांबरी का सामना कनाडा के पीटर पोलांस्की से होगा। अगर वह इस मुकाबले को जीतने में कामयाब रहे तो लगातार तीसरी बार ऑस्ट्रेलियन ओपन पुरुष सिंगल में जगह बनाएंगे। वह 2015 में क्वालीफायर के तौर पर खेलते हुए पहले दौर में एंडी मरे से हारकर बाहर हो गए थे। 2016 में थॉमस बेडयार्क ने उन्हें टूर्नामेंट के पहले दौर में ही बाहर का रास्ता दिखाया था।

इस पर बहस की जा सकती है कि 36 वर्षीय, चार बच्चों के पिता रोजर फेडरर के लिए ग्रैंडस्लैम जीतना बड़ी बात है या नहीं। हालांकि, अगर वह अपना छठा ऑस्ट्रेलियन ओपन जीत लेते हैं, तो यह दो हफ्तों में उनकी दूसरी कामयाबी होगी। हाल ही में उन्होंने हॉपमैन कप के सभी मैच जीते थे।

ऑस्ट्रेलियन ओपन में फेडरर 19वीं बार मेलबर्न पार्क में मुख्य ड्रॉ खेलने उतरेंगे। पिछले साल घुटने की चोट से उबरने के बाद उन्होंने ऑस्ट्रेलियन ओपन अपने नाम किया था। फिलहाल उनकी फिटनेस को लेकर कोई सवाल नहीं है और अगर सट्टेबाजों की मानें तो फेडरर के रहते टूर्नामेंट में भाग ले रहे 127 अन्य पुरुष खिलाड़ियों के लिए कोई उम्मीद नहीं है। फेडरर पहले राउंड के मैच में स्लोवेनिया के अलजाज बेडेने से टकराएंगे। जहां तक चुनौती का सवाल है तो अपना 20वां खिताब जीतने के लिए फेडरर को चोटों से सतर्क रहना होगा।