कुम्भ मेला 2019: जानिए कुंभ में महाशिवरात्रि तक की सभी शुभ स्नान तिथियां

- in अद्धयात्म

आस्था और विश्वास का सबसे बड़ा पर्व कुम्भ 15 जनवरी से शुरु हो कर 4 मार्च तक चलेगा। कुंभ मेला मकर संक्रान्ति से शुरू हो कर शिवरात्रि तक चलेगा। कुंभ मेला सबसे बड़ा धार्मिक और सांस्कृतिक आयोजन होता है। कुंभ मेला पूरे 50 दिनों तक चलने वाला आयोजन है, जिसमे देश के कोने कोने से साधु संयासी आते हैं।

कुम्भ मेला 2019: जानिए कुंभ में महाशिवरात्रि तक की सभी शुभ स्नान तिथियांकुम्भ का शाब्दिक अर्थ है कलश है कुंभ का सम्बन्ध अमृत कलश से है, हिन्दू धर्म में मान्‍यता है कि कुंभ के दौरान पवित्र नदी में स्‍नान करने से व पवित्र संगम में तीन बार डुबकी लगाने से जीवन के सारे पाप धुल जाते हैं व मनुष्‍य को मोक्ष की प्राप्‍ति होती है। कुंभ का तीसरा व अंतिम शाही स्नान बसंत पंचमी के दिन संपन्न हुआ। आज हम इस लेख में आगे से पवित्र स्नान के बारे में बता रहे हैं।

माघी पूर्णिमा

कुंभ मेले का अंतिम शाही स्नान बसंत पंचमी के दिन संपन्न होने के बाद कुंभ मेले का अगला स्नान माघी पूर्णिमा के दिन सम्पन्न होगा। मान्यता है कि इस दिन सभी देवता स्वर्ग से संगम में आ कर स्नान करते हैं।  माघ महीने की पूर्णिमा के दिन कल्पवास की पूर्णता का पर्व भी माना जाता है। क्योंकि इस दिन कुंभ में कठिन कल्पवास व्रतधारी स्नान करते है, इस दिन गुरू बृहस्पति की पूजा की जाती है। कुंभ में अगला स्नान माघी पूर्णिमा यानी 19 फरवरी के दिन सपन्न होगा।

महाशिवरात्रि

कुंभ मेले का आखिरी स्नान महा शिवरात्रि के दिन यानी 4 मार्च के दिन होगा। इस दिन सभी कल्पवासियों के दवारा अंतिम स्नान करने के बाद अपने घरों को लौट जाते हैं। भगवान शिव और माता पार्वती के इस पावन पर्व पर कुंभ में आए भक्त संगम में डुबकी लगाने से शुभ फल मिलता है।  शास्त्रों में मान्यता है कि इस पर्व का देवलोक में भी इंतज़ार रहता है।