क्रिस्टियानो रोनाल्डो की मैदान पर धमक

सैय्यद मोहम्मद अब्बास

फुटबॉल विश्वकप का रोमांच चरम पर है। मेसी से लेकर नेमार के खेल को लेकर चारों ओर चर्चा की जा रही है। पहले दौर में जहां एक ओर मेसी उम्मीद के मुताबिक प्रदर्शन नहीं कर सके तो दूसरी ओर रोनाल्डो का खेल एक बार फिर विश्व खेल पटल पर सुर्खियां बटोर रहा है। नेमार ने पहले मुकाबले में निराश किया था लेकिन दूसरे मुकाबले में उनका खेल भी ठीक-ठाक रहा है। सोशल मीडिया पर मेसी को प्रदर्शन को लेकर तमाम बातें सामने आ रही हैं। इतना ही नहीं मेसी को लेकर उनके फैंस भी काफी निराश है और वह सबके निशाने पर भी आ गए हैं। दूसरी ओर पुर्तगाल के कप्तान और स्टार खिलाड़ी क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने एक बार फिर साबित किया है वह अब भी विश्व के सबसे खतरनाक फुटबॉलर हैं।


विश्वकप जब शुरू हो रहा था तब दुनिया की नजर तीन खिलाड़ी मेसी, क्रिस्टियानो रोनाल्डो और नेमार पर थीं। विश्वकप शुरू हुआ तो पहले मुकाबले में क्रिस्टियानो रोनाल्डो ने धमाकेदार शुरुआत करते हुए 2010 के चैम्पियन स्पेन के खिलाफ भी हैट्रिक गोल कर मैच को ड्रॉ कराकर अपनी टीम को शानदार शुरुआत दिलायी। यह भी रोचक बात है कि वह पिछले तीन विश्वकप में केवल तीन गोल ही कर सके थे लेकिन इस बार एक नहीं बल्कि तीन गोल करके विरोधी खेमों में दहशत पैदा कर डाली है। इसके बाद दूसरे मुकाबले में एक और गोल करके कुल चार गोल कर डाले हैं। आलम तो यह रहा कि पुर्तगाल के कोच फर्नांडो सांतोस ने रोनाल्डो की तुलना ‘पोर्ट वाइन’ से कर डाली। गौरतलब हो कि जो पुरानी होने के बाद और बेहतर हो जाती है, जैसे की क्रिस्टियानो रोनाल्डो में दिख रहा है। रोनाल्डो पर अगर गौर किया जाये तो उन्होंने विश्वकप के क्वालीफाइंग राउंड में कुल 15 गोल दागकर अपनी धमक दिखायी थी। उनकी बदौलत पुर्तगाल ने लगातार नौ मुकाबले जीत कर लगातार पांचवी बार इस टूर्नामेंट के लिए क्वालीफाई किया था। उनके प्रदर्शन को देखकर कोच भी उनकी शान में कसीदे गढ़ रहे हैं। कोच के अनुसार क्रिस्टियानो रोनाल्डो दो-तीन साल बाद ऐसा प्रदर्शन नहीं कर सकेगा। उसने चार-पांच साल पहले जैसा प्रदर्शन किया, अब उससे बेहतर है। वह खुद को अच्छे से जानता है और उसे पता है कि क्या करने की जरूरत है।


बात अगर मेसी की की जाये तो एक बार फिर विश्वकप उनके लिए बुरा सपना साबित होता दिख रहा है। आलम तो यह है कि मेसी की टीम अर्जेटीना को टूर्नामेंट में बने रहने के लिए संघर्ष करना पड़ रहा है। जानकार मानते हैं कि अकेला मेसी इस टीम को आगे तक नहीं ले जा सकता है। वहीं अर्जेंटीना के कप्तान और स्टार खिलाड़ी लियोनन मेसी का खेल अब पहले जैसा नहीं रहा है। मेसी पर आरोप लगता है कि वह देश के लिए वैसा प्रदर्शन नहीं कर पाते जितना किसी क्लब के लिए। मौजूदा विश्वकप में प्रशंसक अर्जेंटीना के खराब प्रदर्शन और स्टार फुटबॉलर मेसी के खराब खेल से बेहद नाराज हैं। अर्जेंटीना का अब तक का सफर बेहद खराब कहा जायेगा क्योंकि उसने शुरुआती दो मुकाबलों में एक मैच किसी तरह से ड्रॉ कराया जबकि एक मैच में उसे हार का मुंह देखना पड़ा है। हार ऐसी कि टूर्नामेंट से सीधे बाहर का रास्ता दिखा रही है। अर्जेंटीनी टीम ने विरोधी गोलपोस्ट पर कुल 135 बार हमले किए हैं लेकिन गोल केवल एक ही कर सकी है। इतना ही नहीं मेसी लगातार विरोधी टीमों को अपने खेल से धराशायी करने में कामयाब रहे हैं लेकिन गोल करने में नाकाम रहे हैं। दूसरी ओर नेमार का हाल भी कोई मेसी से कम नहीं है लेकिन नेमार मेसी से थोड़ा आगे नजर आ रहे हैं। शुरुआती मैच में भले नेमार नहीं चले हो लेकिन अंतिम क्षणों में ब्राजील ने कोस्टा रिका को 2-0 से हराया। इस जीत में नेमार का भी अहम योगदान कहा जायेगा। नेमार ने मैच जीतने के बाद खुशी का इजहार किया है। कुल मिलाकर मौजूदा विश्वकप में मेसी और नेमार की तुलना में क्रिस्टियानो रोनाल्डो सबसे खतरनाक लग रहे हैं। ऐसे में अगर क्रिस्टियानो रोनाल्डो का जलवा इसी तरह से बरकरार रहता है तो वह इस बार विश्व कप में कमाल कर सकते हैं।