खड़ी ट्रेन में कर रहे थे गैंगरेप, सुरक्षा जवानों ने किशोरी को बचाया


गोरखपुर : रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या 8 पर खड़ी गोदान एक्सप्रेस की जनरल बोगी में रविवार की भोर में किशोरी से रेलवे के दो आउटसोर्सिंग कर्मियों समेत तीन लोगों ने गैंगरेप किया। जीआरपी व आरपीएफ की गश्त टीम ने तीनों को मौके से गिरफ्तार कर लिया। जीआरपी ने किशोरी का मेडिकल परीक्षण कराया जिसमें रेप की पुष्टि हुई है। तीनों के खिलाफ जीआरपी में केस दर्ज कर लिया गया है। जीआरपी और आरपीएफ की टीम रविवार की भोर में रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म संख्या 8 पर गश्त कर रही थी। टीम के जवानों को प्लेटफार्म पर खड़ी गोदान एक्सप्रेस की एक जनरल बोगी से कुछ आवाजें सुनाई दीं।

जवान दौड़कर बोगी में पहुंचे। वहां तीन युवक एक किशोरी से दुष्कर्म कर रहे थे। जवानों को देखकर वे भागने लगे। जीआरपी व आरपीएफ जवानों ने तीनों को दौड़ाकर उन्हें पकड़ लिया। जीआरपी और आरपीएफ की पूछताछ में मालूम हुआ कि पकड़े गए युवक बिहार के वैशाली जिले के राजापाकर थाना क्षेत्र स्थित बभनदास गांव निवासी हरिकांत सिंह, भागलपुर जिले के बाथ थाना क्षेत्र स्थित नया गांव निवासी शंभू रजक तथा देवरिया जिले के रुद्रपुर थाना क्षेत्र स्थित माहीगंज निवासी चौथी गुप्ता है।

हरिकांत और शंभू रेलवे में आउटसोर्सिंग कर्मचारी हैं जबकि चौथी रेलवे स्टेशन माल लोड-अनलोड करता है। किशोरी की तहरीर पर जीआरपी ने तीनों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। जीआरपी ने किशोरी का चिकित्सकीय परीक्षण कराया जिसमें रेप की पुष्टि हो गई है। किशोरी सिद्धार्थनगर जिले की रहने वाली है। वह रविवार की भोर में ट्रेन के इंतजार में प्लेटफार्म पर बैठी थी। तीनों आरोपी बहला-फुसलाकर उसे बोगी में लेकर चले गए। किशोरी की तहरीर पर राजकीय रेलवे पुलिस ने हरिकांत, शंभू और चौथी के खिलाफ धारा 376 डी व 5 ( छ)/6 पाक्सो एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है।