गोवा में मोदी और जिनपिंग के बीच होगी द्विपक्षीय वार्ता, उठ सकता है मसूद का मुद्दा

- in संपादकीय

modi-jinping_20161013_143422_13_10_2016नई दिल्ली। ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से पहले 15 अक्टूबर को पीएम मोदी और चीन के प्रधानमंत्री के बीच द्विपक्षीय वार्ता होगी। इस मौके पर भारत की ओर से मसूद अजहर और आतंकवाद के मुद्दे पर बातचीत होने की संभावना है।

वहीं चीन से संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में सदस्यता के मुद्दे पर वार्ता होने की संभावना है। चीन द्वारा हाल ही में इस मुद्दे पर भारत के लिए नरम रुख देखने को मिला है। संभावना यह भी है कि भारत ब्रम्हपुत्र की सहायक नदियों के जल के स्वतंत्र प्रवाह पर वार्ता कर सकता है।

हालांकि दोनों देशों के बीच होने वाली इस द्विपक्षीय वार्ता से पाकिस्तान परेशान हो सकता है। इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि पाकिस्तान ने गोवा में होने वाली ब्रिक्स शिखर सम्मेलन से पहले जेनेवा स्थित संयुक्त राष्ट्र की कमिटी से गुहार लगाई है कि कि एनएसजी की सदस्यता देने के मुद्दे पर बिना भेदभाव के मापदंड के आधार पर निर्णय लिया जाए और बाकी देशों को सदस्यता दी जाए।

गौरतलब है कि गोवा में मोदी की चीन के प्रधानमंत्री और रुस के राष्ट्रपति से मुलाकात होनी है जहां पाकिस्तान द्वारा आतंकवाद को पनाह देने का मुद्दा उठ सकता है। वहीं पाकिस्तानी मीडिया का एक धड़ा भी आतंकवाद के खिलाफ पाक कि पोल खोल रहा है। ऐसे में पाकिस्तान विश्व समुदाय से और अगल-थलग हो सकता है।