जब अटल ने लता से कहा, आपका हॉस्प‍िटल अच्छा चले मैं ऐसा आपसे नहीं कह सकता|जाने क्या थी वज़ह

नई दिल्ली : पूर्व प्रधानमंत्री अटल ब‍िहारी वाजपेयी का गुरुवार को न‍िधन हो गया| इससे देशभर में शोक की लहर है| जी हां अटलजी मशहूर गायि‍का लता मंगेशकर से विशेष स्नेह रखते थे| लता मंगेशकर ने भी अटलजी के निधन पर गहरा शोक जताया है| उन्होंने कहा ऐसा लग रहा है, कि भारत से आज एक साधु पुरुष चला गया| वे बहुत अच्छे लेखक और कवि थे| उनके भाषण सुनने के लिए लोग तरसते थे| लता ने कहा, अटलजी के भाषण में सब सच होता था, और वे सच्चे और अच्छे इंसान थे| कभी किसी का दिल नहीं दुखाया| उनकी कोशिश होती थी ,कि सब ठीक रहें, ठीक हो|

उन्होंने कहा, मैं उनको पिता समान मानती थीं | उन्होंने बताया की जब मैंने उनसे कहा कि मैं आपको पिता समान मानती हूं| सुनकर उन्होंने कहा कि, मैं भी आपको अपनी बेटी मानता हूं| इसके बाद से मैं उनको दद्दा कहकर पुकारने लगी| वे मुझसे बहुत स्नेह करते थे, वे सबसे प्यार करते थे| लता ने कहा,1942 में मेरे पिता की मृत्यु हुई थी, आज उतना ही बड़ा धक्का लगा और बहुत दुख है | लताजी ने आगे एक वाकया शेयर किया और कहा, जब हमने अपने पिता के नाम पर हॉस्प‍िटल खोला तो इसके उद्घाटन समारोह में अटलजी को भी आमंत्रित किया था| जब उन्होंने कार्यक्रम के अंत में अपना भाषण दिया तो बोले, आपका हॉस्प‍िटल अच्छा चले मैं ऐसा आपसे नहीं कह सकता| ऐसा कहने का मतलब है, कि लोग बहुत बीमार पड़ें, ऐसा सुनकर लता आगे कुछ नहीं कह पाईं| लता ने ट्वीटर पर लिखा कि अटलजी के निधन की खबर सुनकर ऐसा लगा जैसे पहाड़ टूट पड़ा हो| ईश्वर उनकी आत्मा को शांति दे| अटल बिहारी वाजपेयी मुकेश और लता मंगेशकर के गाए “कभी-कभी मेरे मन में” गाने को बहुत पसंद करते थे| आज अटल बिहारी वाजपेयी का अंतिम संस्कार किया जाएगा|