डायरी में खून से लिखा- आईएम सॉरी, फिर लगा ली फांसी

- in अपराध

बालोद। 19 साल की आईटीआई की छात्रा ने अज्ञात कारणों से घर के कमरे में फांसी लगा ली। इससे पहले छात्रा ने अपनी कलाई को काटा और खून से डायरी में आईएम सॉरी  लिखा। घटना कल रात से आज सुबह के बीच की है। 

महावीर आईटीआई की छात्रा 19 वर्षीय अलका निषाद निवासी मटिया (बरही) ने अपने घर के कमरे में दुपट्टे का फंदा बना कर अपनी जान दे दी। अलका जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के लेखापाल की पुत्री थी। परिजन को सुबह 6 बजे घटना का पता चला, जब आवाज देने के बाद भी वह सोकर नहीं उठी। इस पर मां चित्राणी बाई व अन्य लोगों ने खिड़की से झांका। भीतर का नजारा रौंगटे खड़े कर देने वाला था। अलका फंदे पर झूल रही थी। उसने बायीं कलाई को बुरी तरीके से काट दिया था। एक डायरी के पन्ने पर खून से ही आई एम सॉरी लिखा मिला था। मामले की जांच करने पहुंचे सहायक उपनिरीक्षक एसएस मंडावी का कहना है कि हो सकता है, प्रथम सेमेस्टर की परीक्षा में फेल हो जाने का डर से छात्रा ने यह कदम उठाया हो।

महावीर आईटीआई के प्राचार्य जगदीश चांडक के मुताबिक, कुछ दिन पहले ही स्टेनो हिंदी की छात्रा अलका निषाद मुझसे दफ्तर में मिलने आई थी। वह बहुत खुश थी। कह रही थी, सर पेपर बहुत अच्छा गया। इससे मुझे नहीं लगता कि उसे फेल होने का कोई डर रहा होगा।