तीन तलाक के बाद ससुर के साथ हलाला, फिर शौहर ने किया रेप


सम्भल : जिले की रहने वाली महिला का आरोप है कि उसके शौहर ने उसे तीन तलाक देने के बाद अपने पिता के साथ हलाला करने पर मजबूर किया। ससुर के तलाक देने के बाद जब वह इद्दत का वक्त गुजार रही थी, इसी दौरान उसके पति ने उसके साथ कई बार जबरन रेप किया। इस बीच जब वह गर्भवती हो गई तो जबरन गर्भपात कराने की कोशिश की गई, किसी तरह पुलिस की मदद से अपने शौहर के चंगुल से छूटी इस महिला ने बरेली के ‘मेरा हक़’ फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नकवी से मिलकर इंसाफ की गुहार लगाई है। सम्भल जिले की रहने वाली सुल्ताना (बदला हुआ नाम) का भी नाम उस लिस्ट में जुड़ गया है, जिनके साथ शरियत की आड़ में घिनौना खेल खेला गया। सुल्ताना को शादी के बाद महज 24 दिनों तक ही ससुराल में रखा गया और उसके बाद उसे मारपीट कर घर से निकाल दिया गया। बाद में सुल्ताना को उसके पति ने तीन तलाक दे दिया।

सुल्ताना ने जब अपने ससुराल वालों पर दहेज उत्पीड़न का मुकदमा दर्ज कराया तो उसके पति ने उसे अपने साथ रखने का वादा करके मामले में समझौता करवा लिया, फिर अपने ही पिता से उसके पति ने सुल्ताना का हलाला करवाया। इतना ही नहीं इद्दत के दिन बीत भी नहीं पाए थे कि सुल्ताना के पति ने उसके साथ जबरन रेप किया। पति की इस घिनौनी हरकत के बाद जब सुल्ताना गर्भवती हो गई तो उससे गर्भपात कराने का दबाव बनाया गया, जब वह नहीं मानी तो 15 दिनों तक उसे भूखा प्यासा घर में कैद रखा गया, लेकिन इस बीच सुल्ताना ने किसी तरह पुलिस को सूचना दे दी, जिसके बाद पुलिस ने उसे पति के कैदखाने से मुक्त करवाया। सुल्ताना अब एक बच्चे की मां बन गई है, लेकिन उसे नहीं मालूम कि बच्चे का पिता कौन है। जब पुलिस में भी सुल्ताना के मामले की सुनवाई नहीं हुई तो उसने केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की बहन और ‘मेरा हक़’ फाउंडेशन की अध्यक्ष फरहत नक़वी से मदद की गुहार लगाई, इस मामले में फरहत नक़वी का कहना है कि वो अल्पसंख्यक आयोग में इस मामले की शिकायत करेंगी और जरूरत पड़ी तो सुल्ताना का केस सुप्रीम कोर्ट तक पहुंचाएंगी। गौरतलब है कि बरेली की निदा खाना ने हलाला और तीन तलाक का मुद्दा उठाया था, जिसके बाद मौलिवियों ने निदा के खिलाफ फतवा जारी कर दिया था। हालांकि न्यायालय के आदेश के बाद फतवा करने वाले मौलवियों पर प्रशासन ने कड़ी कार्रवाई करने को कहा था।