दुनिया के लोगों को है सोचने-समझने एवं भाईचारे से रहने की स्वतंत्रता -डा. भारती गांधी

सी.एम.एस. गोमती नगर में विश्व एकता सत्संग

लखनऊ : सिटी मोन्टेसरी स्कूल, गोमती नगर ऑडिटोरियम में आयोजित ‘विश्व-एकता सत्संग’ में बोलते हुए प्रख्यात शिक्षाविद्, सी.एम.एस. की संस्थापिका-निदेशिका एवं बहाई अनुयायी डा. भारती गाँधी ने कहा कि दुनिया के नागरिक अब जागरूक एवं सजग हैं और उन्हें एकता, शान्ति व भाईचारे के महत्व से अवगत हैं। आज सारी दुनिया इस बात को मानती है कि एकता व शान्ति का कोई विकल्प नहीं है परन्तु विश्व एकता व विश्व शान्ति का लक्ष्य तभी पूरा हो सकता है जब हम अपने अधिकारों की सुरक्षा के साथ-साथ अन्य नागरिकों के अधिकारों को भी उतना ही महत्व दें। वैश्विक दृष्टिकोण एवं जीवन मूल्यों का ज्ञान इस दिशा में अत्यन्त सहायक है। डा. गांधी ने आगे कहा कि सी.एम.एस. के छात्रों को भौतिक, आध्यात्मिक तथा नैतिक शिक्षा प्रदान करके विश्व नागरिक बनने की शिक्षा दी जा रही है ताकि बड़े होकर वे विश्व नागरिक बन सकें।

विश्व एकता सत्संग में आज सी.एम.एस. राजेन्द्र नगर (प्रथम कैम्पस) के छात्रों ने शिक्षात्मक-आध्यात्मिक कार्यक्रम प्रस्तुत कर सभी को मंत्रमुग्ध कर दिया। स्कूल प्रार्थना से कार्यक्रम की शुरूआत करके छात्रों ने सुविचार, प्रार्थना नृत्य, लघु नाटिका आदि की शानदार प्रस्तुतियों से सभी आध्यात्मिक उल्लास से सराबोर दिया। यातायात पर आधारित नुक्कड़ नाटक, पर्यावरण पर आधारित नुक्कड़ नाटक, एक्शन गीत ‘आई एम प्राउड ऑफ माई स्कूल’ एवं बच्चों की माताओं द्वारा प्रस्तुत गीत ‘विश्व हमें देता है सब कुछ’ को सभी ने खूब सराहा। इस अवसर पर विभिन्न धर्मानुयाइयों एवं विद्वजनों ने भी अपने सारगर्भित विचार व्यक्त किये। सत्संग का समापन संयोजिका सुश्री वन्दना गौड़ के धन्यवाद ज्ञापन से हुआ।