देखिये दुनिया के सबसे खतरनाक रेल मार्ग, जहां अटक जाती हैं लोगों की सांसें…

- in अजब-गजब

अगर आपको रोमांचक रास्तों से गुजरने का शौक है तो यह खबर आपके लिए है, क्योंकि आज हम आपको कुछ ऐसे रेलमार्गों के बारे में बताने जा रहे हैं जहां हर पल मौत का खतरा बना रहता है। ये रेलमार्ग दुनिया के सबसे खतरनाक रेलमार्ग माने जाते हैं। हालांकि खतरनाक होने के साथ-साथ ये रेलमार्ग बेहद शानदार भी कहे जाते हैं। कुल मिलाकर इनके बारे में ये कहा जा सकता है कि यहां चलना मतलब जन्नत और जहन्नुम का मजा एक साथ लेने के समान है।

इंडोनेशिया की राजधानी जकार्ता से बैनडंग के बीच सफर करने पर रेलगाड़ी एक बेहद ऊंचे और खतरनाक पुल से गुजरती है, जिसे आरगो गेडे रेलमार्ग कहा जाता है। इस पुल के दोनों तरफ बाड़े नहीं लगे हैं, जिससे यह और भयावह लगता है। यही वजह है कि इस पुल से गाड़ी गुजरते ही यात्रियों की सांसें अटक जाती हैं। डर के मारे तो कुछ यात्रियों की चीख तक निकल जाती है। हालांकि इस डर के अलावा पुल से नीचे अगर देखें तो काफी शानदार नजारा दिखता है।

इस रेलमार्ग का नाम है ‘द डेथ रेलवे’, जो म्यांमार की सीमा से सटे थाईलैंड के कंचनबुरी प्रांत में है। दूसरे विश्व युद्ध के दौरान जब इस रेलमार्ग को जापानियों ने बनाया, तब सैकड़ों अंग्रेज और ब्रिटिश युद्ध कैदियों की जान इसके निर्माण के दौरान चली गई थी। यह रेलमार्ग नदी के किनारे-किनारे हरे-भरे और घने जंगलों से होकर गुजरता है, जिससे यात्रियों को बेहद शानदार नजारों का भी दीदार होता है।

जापान का आसो मिनामी रेलमार्ग ऐसे इलाके से गुजरता है, जहां जिंदा ज्वालामुखियों की भरमार है। यहां रेलवे को भी पता नहीं होता कि कब और कहां विस्फोट हो जाए। यहां ट्रेन से गुजरते वक्त ज्वालामुखी के लावा से तबाह हुए पेड़ भी दिखाई देते हैं।

इक्वाडोर में नारिज डेल डिआबलो रेलमार्ग को डेविल्स नोज (शैतान का नाक) के नाम से भी जाना जाता है। यह रेलमार्ग पहाड़ों पर 9,000 फुट की ऊंचाई से गुजरता है। इसे दुनिया के सबसे खतरनाक रेलमार्गों में शामिल किया गया है।

ऑस्ट्रेलिया के कुरांदा स्केनिक रेलमार्ग से गुजरने पर लोगों की सांसें अटक जाती हैं। रेलगाड़ी यहां बैरन जॉर्ज नेशनल पार्क में आने वाले शानदार जंगलों से होकर गुजरती है। इस मार्ग में कई झरने भी मिलते हैं, जो कभी-कभी पूरी ट्रेन को भिगो देते हैं। यह रेलमार्ग उत्तरी क्वींसलैंड स्थित दुनिया के हेरिटेज वर्षा वनों से होकर गुजरता है।

अर्जेंटीना के ‘ट्रेन ए लास न्यूब्स’ रेलमार्ग को पूरा करने में 27 साल लग गए थे। यह दुनिया के सबसे खतरनाक रेलमार्गों में से एक है। इस रेलमार्ग में ट्रेन इतनी ऊंचाई से गुजरती है, जहां बादल नीचे नजर आते हैं। इस मार्ग में 21 सुरंगें और 13 एक समान ऊंचे पुल पड़ते हैं।

भारत का चेन्नई-रामेश्वरम रेलमार्ग दो किलोमीटर से भी ज्यादा लंबा है। समुद्र में बने इस पुल का निर्माण साल 1914 में हुआ था। इस पुल से गुजरने पर आपको कुछ देर के लिए कहीं भी जमीन नजर नहीं आएगी, सिर्फ और सिर्फ समुद्र का पानी ही नजर आएगा। यह रेलमार्ग दिखने में जितना सुंदर लगता है, उतना ही खतरनाक भी है।