दोपहर 2.43 बजे लॉन्च होगा चंद्रयान-2

नई दिल्ली : भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संस्थान का स्पेसक्राफ्ट चंद्रयान-2 चांद पर जाने के लिए तैयार है. रविवार शाम 6:43 बजे से इसकी लॉन्चिंग की उल्टी गिनती शुरू हो गई है. इसरो के चीफ के सिवन ने इसकी पुष्टि की. उन्होंने कहा कि चंद्रयान में लिक्विड कोर स्टेज पर ईंधन भरने का काम पूरा हो गया है. जीएसएलवी मार्क—3, चंद्रयान-2 के लॉन्च व्हीकल की रिहर्सल पूरी कर ली है. 20 घंटे चलने वाली उल्टी गिनती के बाद सोमवार की दोपहर 02:43 बजे इस मिशन को लॉन्च किया जाएगा. भारत का दूसरा मून मिशन सोमवार श्रीहरिकोटा के सतीश धवन स्पेस सेंटर से लॉन्च होगा. इसरो ने इस बार चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग के लिए 4 अहम बदलाव किए हैं. इसरो के चीफ डॉ. के सिवन ने बताया कि चंद्रयान-2 के पहले प्रयास में जो भी तकनीकी कमियां देखी गई थीं, उसे ठीक कर लिया गया है. सिवन ने कहा, ‘सभी जरूरी कदम उठाए गए हैं. लीकेज की वजह से पहली बार लॉन्चिंग टलने के बाद हमने इस बार सतर्कता बरती है. तैयारियों को पूरा करने में एक दिन से ज्यादा का वक्त लगा है. मैं आपको भरोसा दिलाना चाहता हूं कि इस बार ऐसी कोई तकनीकी गड़बड़ी नहीं होगी.

चंद्रयान-2 आने वाले दिनों में 15 महत्वपूर्ण मिशन पर काम करेगा.’ चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग चांद के साउथ पोल पर एक रोवर को उतारने के उद्देश्य से की जा रही है. अभी तक इस जगह पर कोई भी देश नहीं पहुंचा है. चांद के साउथ पोल पर स्पेसक्राफ्ट उतारने के बाद भारत ऐसा करने वाला पहला देश बन जाएगा. रॉकेट में एक ‘तकनीकी दिक्कत’ के कारण 15 जुलाई की सुबह इसे लॉन्च होने से रोक दिया गया था. दिक्कत तब आई थी, जब लिक्विड प्रोपेलेंट को रॉकेट के स्वदेशी क्रायोजेनिक अपर-स्टेज इंजन में लोड किया जा रहा था. दरअसल, लॉन्चिंग से करीब 56.24 मिनट पहले इसरो ने मीडिया सेंटर और विजिटर गैलरी में लाइव स्क्रीनिंग रोक दी. जिस समय लॉन्चिंग रोकी गई, उस समय काउंटडाउन का आखिरी चरण में था. इसरो से जुड़े सूत्रों के मुताबिक, कुछ मिनट पहले ही रॉकेट के क्रायोजेनिक इंजन में लिक्विड हाइड्रोजन भरा गया था. इसकी वजह से क्रायोजेनिक इंजन और चंद्रयान-2 को जोड़ने वाले लॉन्च व्हीकल में प्रेशर लीकेज हो गया. इसरो के सूत्रों ने बताया कि ये लीकेज तय सीमा पर स्थिर नहीं हो रहा था. लॉन्च के लिए जितना प्रेशर होना चाहिए, उतना नहीं था. ये प्रेशर लगातार घटता जा रहा था. इसलिए इस इसरो के मून मिशन चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग को ऐन वक्त पर टाल दिया.