धनबाद के बैंक ऑफ इंडिया की कोलाकुसमा शाखा में दिनदहाड़े 10 लाख का डाका


धनबाद : बिग बाजार के समीप बैंक ऑफ इंडिया की कोलाकुसमा शाखा में बुधवार को दिन दहाड़े डाका पड़ा। डकैतों ने हथियार के बल पर बैंक कर्मचारियों और सुरक्षाकर्मियों के साथ ही बैंक में उपस्थित ग्राहकों को काबू किया। इसके बाद बैंक से 10 लाख रुपये लूटकर आराम से चलते बने। डकैतों ने बैंककर्मियों के साथ मारपीट भी की। उन्होंने बैंक के सुरक्षा गार्ड विशुनदेव सिंह और कैशियर नौशाद के सिर पर रिवॉल्वर की बट से प्रहार किया। सुरक्षा गार्ड की बंदूक छीन ली। बाद में बंदूक उसी बिल्डिंग के तीसरे तल्ले पर सीढ़ी पर मिली। बैंक में अपराधियों ने दो बम छोड़ दिया था। बैंक प्रबंधक रंजीत दत्ता के मुताबिक दोपहर लगभग 1:10 बजे पांच अपराधी हथियार के साथ बैंक में घुसे और सभी कर्मियों को कब्जे में ले लिया। सुरक्षा गार्ड उस वक्त बाथरूम से निकल रहा था। अपराधियों ने उसकी बंदूक छीन ली। उस वक्त बैंक में बच्चे, महिला, पुरुष मिलाकर तकरीबन डेढ़ दर्जन लोग थे। ग्राहकों को अपराधियों ने हथियार दिखाकर एक जगह खड़ा कर दिया। फिर सभी ने कैशियर नौशाद को हथियार दिखाकर काउंटर खुलवाया और वहां रखे तकरीबन 80 हजार रुपये निकाल लिए। इसके बाद प्रबंधक से स्ट्रांग रूम की चाबी ले ली। फिर तीन अपराधियों ने वहां रखे करीब साढ़े नौ लाख रुपये निकाल लिया। फिर बैंककर्मी व सभी ग्र्राहकों को स्ट्रांग रूम में बंद कर दिया। उन्हें भयभीत करने के लिए स्ट्रांग रूम के अंदर एक और मेन गेट के पास दूसरा बम रख दिया। अपराधी सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर खोलकर ले गए। लोगों के अनुसार सभी अपराधी बाइक से आए थे। पुलिस ने बैंक के ठीक बगल में एक दुकान का सीसीटीवी फुटेज खंगाला। उसमें अपराधी बाइक से भागते दिख रहे हैं। सूचना मिलते ही एसएसपी किशोर कौशल, सिटी एसपी पियूष पांडेय, सरायढेला थाना प्रभारी समेत कई पुलिस पदाधिकारी पहुंच गए। बम निरोधक दस्ते ने दोनों बम को जब्त किया। पानी में डालकर पुलिस ने उसे निष्क्रिय कर दिया। बैंक मैनेजर रंजीत दत्ता ने बताया कि अपराधी 15 मिनट तक बैंक में रुपये ढूंढ़ते रहे। उस वक्त बैंक में तकरीबन 12-13 लाख रुपये थे। स्ट्रांग रूम में एक लाख रुपये का सिक्का भी रखा हुआ था। अपराधियों ने उसे देखा मगर लेकर नहीं गए। लॉकर में एक बैग में ग्राहकों के कुछ जेवरात थे। वह बैग भी नहीं खोला गया।

बैंक मैनेजर द्वारा सरायढेला थाना में दर्ज कराई गई शिकायत के अनुसार 10 लाख 3 हजार और 70 रुपये लूटकर अपराधी ले गए हैं। गार्ड ने बताया कि 10 अपराधी थे, हिंदी-भोजपुरी बोल रहे थेः बैंक ऑफ इंडिया में दिनदहाड़े डकैती की घटना के बाद पुलिस के सामने जल्द से जल्द अपराधियों को पकडऩे की चुनौती बढ़ गई है। सबसे पहले पूछताछ के लिए सरायढेला पुलिस ने सुरक्षा गार्ड विशुनदेव सिंह को हिरासत में लिया। वह सिंदरी के डोमगढ़ का रहनेवाला है। उसने घटना में शामिल अपराधियों की संख्या दस के करीब बताई। यह भी कहा कि अपराधी ङ्क्षहदी तथा भोजपुरी में आपस में बात कर रहे थे। उनके चेहरे खुले थे। सामने आने पर वह उन्हें पहचान सकता है। अपराधियों की उम्र 25 से 35 वर्ष के करीब थी। अपराधी जब लूटपाट के बाद चले गए तब बैंक मैनेजर ने हिम्मत जुटाकर इसकी सूचना उपायुक्त को दी। इसके बाद सरायढेला थाना को फोन किया। जिस वक्त मैनेजर ने उपायुक्त को फोन किया, उस वक्त वे चुनाव की तैयारी को लेकर पुलिस पदाधिकारियों के साथ बैठक कर रहे थे। तत्काल एसएसपी, सिटी एसपी घटनास्थल पर पहुंचे और छानबीन शुरू की। लूटपाट के बाद अपराधी गोविंदपुर की ओर भागेः बैंक ऑफ इंडिया में घटना को अंजाम देनेवाले सभी अपराधी बाइक से गोविंदपुर की ओर भाग निकले। उसके भागने का वीडियो फुटेज बैंक के आसपास की दुकानों में लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो चुका है। पुलिस को आशंका है कि लोकल अपराधियों की मदद से दूसरे जिले के अपराधियों ने घटना को अंजाम दिया है। अपराधियों ने फुलप्रूफ रणनीति के तहत घटना को अंजाम दिया। पुलिस छानबीन कर रही है। अभी तक पांच लोंगों के घटना में शामिल होने के वीडियो फुटेज मिले हैं।