नागरिकता संशोधन कानून को लेकर कुछ युवाओं में फैलाया जा रहा है भ्रम : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

कोलकाता : नागरिकता संशोधन कानून को लेकर देश में भ्रम फैलाया जा रहा है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा है कि कहा कि इस कानून को लेकर कुछ युवा भ्रम के शिकार हैं। पश्चिम बंगाल की धरती से एक बार फिर से वे लोगों को आश्वस्त करना चाहेंगे कि ये कानून नागरिकता देने के लिए बना है, छीनने के लिए नहीं। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि ये कानून रातों-रात नहीं बना है, बल्कि इस कानून में संसद के जरिए मात्र एक संशोधन किया गया है। इस कानून में नागरिकता लेने के लिए सहूलियत बढ़ाई गई है। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान में धर्म के आधार पर प्रताड़ित लोगों को भारत की नागरिकता मिले ऐसा महात्मा गांधी भी चाहते थे। उन्होंने कहा कि सीएए पर गलतफहमियों को दूर किया जाना चाहिए। राजनीतिक दल इसको लेकर भ्रम फैला रहे हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बेलूर मठ में मौजूद लोगों से पूछा कि क्या भारत आए शरणार्थियों को मरने के लिए छोड़ देना चाहिए, क्या उन्हें लेकर हमारी जिम्मेदारी नहीं है। मोदी ने कहा कि इतनी स्पष्टता के बावजूद, कुछ लोग सिटिजनशिप अमेंडमेंट एक्ट को लेकर भ्रम फैला रहे हैं। मुझे खुशी है कि आज का युवा ही ऐसे लोगों का भ्रम भी दूर कर रहा है। उन्होंने कहा कि आप जैसे युवा सीएए की जिस बात को समझ गए हैं, राजनीति का खेल खेलने वाले इसे नहीं समझना चाहते हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि स्वामी विवेकानंद जी की वो बात हमें हमेशा याद रखनी होगी जब वो कहते थे कि ‘अगर मुझे सौ ऊर्जावान युवा मिल जाएं, तो मैं भारत को बदल दूंगा।’ यानि परिवर्तन के लिए हमारी ऊर्जा, कुछ करने का जोश ही आवश्यक है। अगर आप युवा हैं तो आप कभी समस्या से भागेंगे नहीं। युवा होने का मतलब है, समस्या से टकराना, चुनौती को चुनौती देना। जब लगता था कि व्यवस्था को बदलना को मुश्किल है तब युवाओं ने इसे बदल दिया। आप सभी को स्वामी विवेकानंद जयंती के इस पवित्र अवसर पर, राष्ट्रीय युवा दिवस पर, बहुत-बहुत शुभकामनाएं। देशवासियों के लिए बेलूर मठ की इस पवित्र भूमि पर आना किसी तीर्थयात्रा से कम नहीं है, लेकिन मेरे लिए तो हमेशा से ही ये घर आने जैसा ही है। उन्होंने कहा कि बेलूर मठ ने ही मुझे सेवा का रास्ता दिखाया है। मोदी ने कहा कि बेलूर मठ आना तीर्थयात्रा की तरह है। वे सौभाग्यशाली हैं कि उन्हें बेलूर मठ में रातभर रहने को मौका मिला है। पीएम मोदी ने इसके लिए बेलूर मठ प्रशासन और पश्चिम बंगाल सरकार का धन्यवाद दिया। पीएम ने कहा कि प्रोटोकॉल की मजबूरियों के बावजूद ये सब संभव हो सका है, इसके लिए वे सरकार के आभारी हैं। इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज सुबह रामकृष्ण मंदिर पहुंचे। यहां पर उन्होंने पूजा अर्चना की। आपको बताते जाए कि आज स्वामी विवेकानंद का जन्मदिन है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी शनिवार रात भी मठ में ही गुजारी थी। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी रामकृष्ण मठ पहले भी आ चुके हैं।