पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश साकिब निसार ने मुशर्रफ को कहा, देश वापस लौटो, यहां भी हैं अच्छे डॉक्टर

‘पाकिस्तान में भी अच्छे डॉक्टर हैं और यहां भी तुम्हारा इलाज हो सकता है।’ ये बात पाकिस्तान की सुप्रीम कोर्ट के चीफ जस्टिस साकिब निसार ने बृहस्पतिवार को पूर्व तानाशाह परवेज मुशर्रफ को कही। चीफ जस्टिस ने दुबई में रह रहे पूर्व तानाशाह को अपने खिलाफ देशद्रोह के मामले में शीर्ष अदालत के सामने पेश होकर बयान दर्ज कराने के आदेश दिए हैं।पाकिस्तान के मुख्य न्यायाधीश साकिब निसार ने मुशर्रफ को कहा, देश वापस लौटो, यहां भी हैं अच्छे डॉक्टर

75 वर्षीय जनरल मुशर्रफ 2007 में संविधान को निलंबित करने के लिए देशद्रोह के मुकदमे का सामना कर रहे हैं। पाकिस्तानी सेना के पूर्व अध्यक्ष मार्च 2016 में अपना इलाज कराने के नाम पर दुबई भाग गए थे और इसके बाद सुरक्षा व स्वास्थ्य कारणों का हवाला देकर वापस देश लौटने से इनकार करते रहे हैं।

चीफ जस्टिस ने गुरुवार को अपनी टिप्पणी तब की, जब वह 2007 में मुशर्रफ की तरफ से राष्ट्रपति के तौर पर पारित किए गए राष्ट्रीय सुलह अध्यादेश (एनआरओ) से जुड़े मामले की सुनवाई करने वाली पीठ की अगुआई कर रहे थे। एनआरओ के तहत किसी भी आदमी के खिलाफ चल रहे भ्रष्टाचार व आपराधिक मामलों को खारिज कर उसे आम माफी देने का अधिकार सरकार को मिल गया था, इससे कार्रवाई के डर से देश से बाहर चले गए राजनीतिक व्यक्तियों के वापस लौटकर लोकतांत्रिक प्रक्रिया का हिस्सा बनने का रास्ता साफ हो गया था।

नवाज शरीफ का तख्तापलट करके 19 साल पहले मुशर्रफ बने थे पाक सेनाध्यक्ष

19 साल पहले नवाज शरीफ का तख्तापलट करके जनरल परवेज मुशर्रफ पाक सेनाध्यक्ष बन गए थे। 1999 में उन्होंने आज ही के दिन शरीफ का तख्तापलट किया था। इसके बाद उन्होंने खुद को पाक सेनाध्यक्ष घोषित किया था। बिना खून-खराबे के उन्होंने इस तख्तापलट को अंजाम दिया था। तख्तापलट के इस अभियान को तैयार करने से पहले सेना की 111 ब्रिगेड इकाइयों को इसके बारे में लिखित में दिशा-निर्देश दिए गए थे।

इस तख्तापलट के समय अजीज सैन्य अभियान महानिदेशक और मुशर्रफ के करीबी थे। सरकार को हटाने के लिए सही समय पर कार्रवाई करने के लिए सेना भवन में कई बैठकें की गई थीं। इस सजिश को अंजाम देने में तत्कालीन जनरल अजीज खान के साथ ही तत्कालीन कार्प कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल महमूद, सैन्य खुफिया महानिदेशक मेजर जनरल अहसनुल हक ने महत्वपूर्ण निभाई थी। तख्तापलट के बाद शरीफ को कोर्ट ने भ्रष्टाचार का दोषी पाया था।