पाकिस्तान ने फिर की कायराना हरकत, सैनिक का गला रेता, गोली मारी

नई दिल्‍ली : पाकिस्तान के नए प्रधानमंत्री इमरान खान भारत से रिश्ते सुधारने की बात कर रहे हैं, वहीं दूसरी ओर पाकिस्तान की बॉर्डर एक्शन टीम (बैट) ने चुपचाप घात लगाकर बीएसएफ के जवान नरेंद्र कुमार की हत्या कर दी। जब पिछले मंगलवार को सीमा पर गश्त लगाने निकले अपने जवान नरेन्द्र कुमार के गायब होने की जानकारी सामने आई तो बीएसएफ के अधिकारियों के हाथ पैर फूल गए। आनन-फानन में तलाशी शुरू की गई, लेकिन शहीद जवान की कोई भी जानकारी नहीं मिल रही थी, लेकिन उसके बाद जो हुआ वो और भी परेशान कर देने वाला था। जब बीएसएफ को अपने जवान नरेंद्र कुमार के गायब होने की जानकारी मिली तो करीब 2 बजे बीएसएफ ने पाकिस्तानी रेंजर्स के अधिकारियों को फोन किया, लेकिन फोन की घंटी बजती रही और पाकिस्तानी रेंजर्स ने फोन नहीं उठाया। करीब तीन बार कॉल करने के बाद पाकिस्तानी रेंजर्स फोन पर आए और उन्होंने कहा कि वह अपने सीनियर अधिकारियों को इसके बारे में जानकारी देंगे। काफी देर तक इंतजार करने के बाद पाकिस्तानी रेंजर्स ने फोन पर बीएसएफ के अधिकारियों से बातचीत की और इससे वह साफ मुकर गए कि उन्होंने अपनी तरफ से बीएसएफ के पोस्ट पर किसी भी तरीके की फायरिंग की है, यहां तक की उन्होंने इस बात से भी इनकार कर दिया कि उनके पास कि उन्होंने बीएसएफ जवान को अगवा किया है। इसके बाद बीएसएफ ने पाकिस्तानी रेंजर से कहा कि वह बॉर्डर पर जाकर के अपने गायब हुए जवान की खोजबीन करना चाहते हैं और ऐसे में पाकिस्तानी रेंजर्स किसी भी तरीके की फायर न करें। करीब 5 बजे पाकिस्तान इस बात के लिए तैयार हुआ कि बीएसएफ पार्टी सीमा पर आ सकती है। अधिकारियों ने भारतीय सेना के अधिकारियों को फोन करके कहा कि वह डीजीएमओ स्तर पर पाकिस्तान से उठाएं। करीब 2:30 बजे भारत और पाकिस्तान के डीजीएमओ लेवल पर बातचीत हुई, जिसमें सेना ने भी पाकिस्तान से बीएसएफ के जवान के बारे में जानकारी मांगी, लेकिन एक बार फिर से पाकिस्तान ने किसी भी जानकारी को शेयर करने से मना कर दिया और यहां तक इस बात से इनकार करते रहे कि उनकी तरफ से गोली नहीं चली है। हालांकि हैरान करने वाली बात यह है कि बीएसएफ ने इस पूरे मामले पर चुप्पी साध ली है। नरेंद्र सिंह का शव उनके लापता होने के करीब 6 घंटे बाद मिला।

बीएसएफ के बयान में कहा गया है कि मंगलवार सुबह 10:40 मिनट पर रामगढ़ सेक्‍टर पर पाकिस्‍तान की ओर से फायरिंग शुरू हो गई। उस समय वहां बीएसएफ की एक पार्टी मौजूद थी, वह पेट्रोलिंग पर निकली थी। इस दौरान ही नरेंद्र सिंह अपनी पार्टी से बिछड़ गए। बीएसएफ ने उनकी खोजबीन शुरू की। पाकिस्‍तानी रेंजरों से भी इसमें मदद मांगी गई। पेट्रोलिंग के पहले बीएसएफ ने पाकिस्‍तानी रेंजरों को यह खबर भिजवाई गई थी कि उसकी पार्टी उस एरिया में निकलेगी, यह सूचना स्‍टैंडर्ड ऑपरेटिंग प्रोसिजर के तहत साझा की गई थी। सूचना में बताया गया था कि 176 बटालियन के 8 जवान उस एरिया में निकले हैं, लेकिन पाकिस्‍तान की बॉर्डर एक्‍शन टीम ने नापाक हरकत कर डाली। भारत ने सैन्य अभियान निदेशालय स्तर की वार्ता के दौरान बीएसएफ जवान की हत्या पर पाकिस्तान के समक्ष विरोध दर्ज कराया है। बातचीत के दौरान भारत ने अंतरराष्ट्रीय सीमा पर बीएसएफ जवान को निशाना बनाकर किए गए संघर्षविराम उल्लंघन के खिलाफ विरोध दर्ज कराया। घटना के बाद सुरक्षा बलों ने अंतरराष्ट्रीय सीमा और नियंत्रण रेखा (एलओसी) पर ‘हाई अलर्ट’ जारी कर दिया गया था। हेड कांस्टेबल कुमार को 3 गोली लगीं और उनका शव छह घंटे के बाद भारत-पाक बाड़बंदी के पास मिल पाया, क्योंकि पाकिस्तानी पक्ष ने सीमा पर संयम बनाए रखने और बीएसएफ के खोजी दलों पर गोलीबारी न होना सुनिश्चित करने के आह्वान पर ‘कोई प्रतिक्रिया नहीं दी।