पादरियों का ‘अधर्म’, यूएस में हजारों बच्चों का किया यौन उत्पीड़न


वाशिंगटन : कैथोलिक पादरियों द्वारा अमेरिका के पेन्सिलवेनिया राज्य में यौन शोषण का सनसनीखेज खुलासा हुआ है। खुलासे के मुताबिक 1940 के दशक से अब तक पादरियों ने हजारों बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न और बलात्कार किया, लेकिन चर्च के वरिष्ठ अधिकारियों ने लगातार इन घटनाओं को छिपा कर रखा। मंगलवार को जारी ग्रैंड ज्यूरी की रिपोर्ट में इस आरोपों को पुख्ता कर दिया गया है। हैरिसबर्ग शहर में बुलाए गए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में अटॉर्नी जनरल जोश शैप्रियो ने कहा कि पादरी छोटे बच्चों और लड़कियों के साथ बलात्कार कर रहे थे। भगवान के लोग केवल ऐसे काम करने के लिए ही नहीं, बल्कि इन्हें छुपाने के लिए भी जिम्मेदार हैं।

शैप्रियो ने कहा कि जांच से इस बात की पुष्ट‍ि हुई है कि पेन्सिलवेनिया और वेटिकन के वरिष्ठ चर्च अधिकारियों ने इन सभी बातों को ढंकने का प्रयास किया। ग्रैंड ज्यूरी की रिपोर्ट के अनुसार जिस संख्या में यह मामला सामने आया है, वह अपने आप में एक रिकॉर्ड है। रिपोर्ट के अनुसार, बच्चों के साथ यौन उत्पीड़न करने वाले पादरियों की संख्या 300 से ज्यादा है। ज्यादातर मामले इतने पुराने हो गए हैं कि अब उनके बारे में आपराधिक मामला भी दर्ज नहीं किया जा सकता। आरोपियों में से 100 से ज्यादा पादरियों की तो मौत भी हो चुकी है। कई रिटायर हो चुके हैं और कई ऐसे भी हैं जो पादरी का जीवन छोड़ चुके हैं। अधिकारियों ने सभी मामलों की जांच की है और फिलहाल दो लोगों पर ही मामला दर्ज हो पाया है, इनमें से एक पादरी भी है जो दोषी माना गया है। ग्रैंड ज्यूरी ने वाशिंगटन ऑर्कडियोसेज के प्रमुख कार्डिनल डोनाल्ड वुएरेल को पादरियों को बचाने के लिए आरोपी बनाया है। यही नहीं, अमेरिका के कई बिशप ने यह माना है कि अगर देश भर की बात करें तो 17 हजार से ज्यादा लोगों के साथ यौन उत्पीड़न किया गया है।

पेन्सिलवेनिया के ज्यादातर पीड़ित लड़के हैं, लेकिन लड़कियों का भी शोषण किया गया है, आरोप तो यह तक है कि पादरियों ने कई बच्चों से एनल, ओरल और वेजाइनल सेक्स किया, एक 9 साल के बच्चे को ओरल सेक्स के लिए मजबूर किया गया। एक और बच्चे को नग्न कर उसकी तस्वीर खींची गई। आरोपों के बाद वाशिंगटन डीसी के पूर्व आर्कबिशप एच. मैककैरिक ने कार्ड‍िनल के दायित्व से इस्तीफा दे दिया है।