पिछले 5 दिनों से आ रहे थे मेसेज, जब फ़ोन पर पड़ी नज़र तो उड़ गए होश

- in अजब-गजब

भीलवाड़ा:इन दिनों भारत देश में क्राइम केस लगातार बढ़ते नजर आ रहे हैं. इंटरनेट ने आज की युवा पीढ़ी को जीने की नई राह सिखा दी है. इंटरनेट के बहुत से ऐसे फायदे हैं जो हमारे काम को आसान बना देते हैं और हम घर बैठे बैठे ही पूरी दुनिया की खबर रख सकते हैं. लेकिन कुछ नुक्सान भी हैं जो युवा पीढ़ी को बिगाड़ने के काम आते हैं. दरअसल, आज की नई जनरेशन काफी स्मार्ट और फ़ास्ट फॉरवर्ड हो चुकी है और अपनी स्मार्टनेस का गलत तरह से इस्तेमाल कर रही है.

अगर आप भी इंटरनेट यूजर हैं तो आपने “हैकिंग” का नाम जरुर सुना होगा. बहुत से बच्चे लालच में फंस कर बड़ी बड़ी बैंक साइट्स को हैक कर लेते हैं और वहां के खाता धारकों की दिन रात मेहनत से इक्कठी की हुई कमाई को उनके खातों से गायब करके अपने खाते में ट्रांसफर कर लेते हैं. कुछ ऐसा ही मामला हाल ही में हमारे सामने आया है. जहाँ एक व्यक्ति को बैंक में पैसे रखना महंगा पड़ गया. चलिए जानते हैं आखिर ये पूरा मामला क्या था.

कईं दिनों से आ रहे थे मेसेज

दरअसल, ये पूरी घटना भीलवाड़ा की है. यहाँ रहने वाले एक युवक को पिछले पांच दिनों से मोबाइल फोन पर मेसेज आ रहे थे. पीड़ित व्यक्ति उन मेसेज से अनजान था और उन्हें बेफालतू समझ कर उसने उन पर ध्यान नहीं दिया. लेकिन जब 5 दिन बाद उसने मोबाइल फोन पकड़ा तो मेसेज देख कर उसके पाँव तले से ज़मीन खिसक गई. बताया जा रहा है कि जिन SMS को वह बेकार समझ रहा था वो और कोई नहीं बल्कि उसके बैंक द्वारा भेजे गए मेसेज थे. इन मेसेज के अनुसार व्यक्ति के पिछले पांच दिनों से लगातार बैंक से कोई पैसे निकाल रहा था और जब तक उसे भनक होती तब तक खाते से 12 हजार रूपये की रकम का उसे चूना लग चुका था.

बिना OTP और ATM के निकले पैसे

बैंक खाते से पैसे निकलने के बाद व्यक्ति ने पुलिस में शिकायत दर्ज करवाई. व्यक्ति के अनुसार उसने किसी को अपना OTP या ATM कार्ड का पासवर्ड नहीं बताया था. लेकिन इसके बावजूद भी उसके खाते से राशि निकाल ली गई. मिली जानकारी के अनुसार कीरखेड़ा के आरजिया निवासी हरी सिंह का स्टेट बैंक ऑफ़ इंडिया बैंक की मुख्य ब्रांच में खाता चल रहा था. बीती 11मई को उसके मोबाइल पर 12 हजार रूपयें निकलने का मेसेज आया. मेसेज के अनुसार उसकी ये राशि सुभाषनगर क्षेत्र के एटीएम से निकाली गई थी.

वहीँ उसके अगले दिन ही उसके खाते से और 6 हजार रूपयें निकल गए. हालाँकि, इन दोनों ट्रांजेकशन का उसके मोबाइल पर मेसेज भी आया था लेकिन हरी सिंह ने ध्यान नहीं दिया. घटना के तीन दिन बाद ही यानी 17 मई को उसके बैंक से फिर से छह हजार रुपए निकाले जाने का मेसेज आया. लगातार राशि निकलने के मेसेज पढ़ कर हरी सिंह के होश उड़ गए और वह तुरंत बैंक पहुँच गया. वहां उसने बताया कि आज तक उसने अपना पासवर्ड और खाता नंबर किसी को नहीं दिया था लेकिन इसके बावजूद भी उसके पैसे खाते से गायब कर दिए गए. फिलहाल पुलिस मामले की छानबीन कर रही है.