पौड़ी जिले के लैंसडौन में देश की आन-बान-शान की रक्षा करने की 253 जवानों ने खाई कसम

- in उत्तराखंड, राज्य

लैंसडौन, पौड़ी: देश की आन-बान-शान की हर कीमत पर रक्षा करने की कसम ग्रहण करके गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट सेंटर के 253 जवान भारतीय थल सेना के अभिन्न अंग बन गए। परेड के निरीक्षण अधिकारी ब्रिगेडियर हरमीत सिंह सेठी ने सभी नवप्रशिक्षित जवानों से मातृभूमि की रक्षा के लिए अपना सर्वोच्च न्योछावर करने का आह्वान किया है।पौड़ी जिले के लैंसडौन में देश की आन-बान-शान की रक्षा करने की 253 जवानों ने खाई कसम

शनिवार को गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट सेंटर के परेड ग्राउंड में कोर 73 के 253 जवान सेना की कड़ी ट्रेनिंग का अंतिम पग पार करके भारतीय थल सेना में शामिल हो गए। इस मौके पर निरीक्षण अधिकारी ब्रिगेडियर हरमीत सिंह को परेड कमांडर राइफलमैन ताजबर सिंह के नेतृत्व में सलामी दी गई। इस मौके पर नवप्रशिक्षित रिक्रूट ने शानदार ड्रिल का प्रदर्शन किया।

परेड को संबोधित करते हुए ब्रिगेडियर हरमीत सिंह ने कहा कि गढ़वाल राइफल्स रेजीमेंट ने सभी रिक्रूटों को एक बेहतर सैनिक बनाने में कड़ी मेहनत की है। उन्होंने कहा कि एक अच्छे सैनिक के अंदर त्याग, बलिदान, कर्तव्यनिष्ठा, अनुशासन, आचरण जैसे गुणों का होना बेहद जरूरी है। उन्होंने कहा कि गढ़वाल रेजीमेंट के बहादुरी के किस्से दुनिया में सात समंदर पार भी गए जाते हैं।

ब्रिगेडियर सेठी ने सभी सैनिकों से वक्त पड़ने पर देश के लिए अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान देने की बात कही। इस मौके पर गढ़वाल रेजीमेंट के मिलेट्री बैंड ने मनोरम धुनें बिखेर कर परेड की सारगर्भिता बढ़ा दी। परेड के साक्षी बनने के लिए समूचे गढ़वाल से नवप्रशिक्षित सैनिकों के परिजन बड़ी संख्या में मौजूद थे।  

राइफल मैन संजय सिंह को स्वर्ण पदक कोर-73 के दौरान सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करने के लिए राइफलमैन संजय सिंह को स्वर्ण पदक से नवाजा गया, जबकि राइफलमैन मंजय सिंह को रजत व त्रितेश सिंह रावत को कांस्य पदक से सम्मानित किया गया। ड्रिल में सर्वोत्तम प्रदर्शन के लिए ताजबर सिंह को सम्मानित किया गया, जबकि शारीरिक में सर्वोत्तम प्रदर्शन के लिए तीरज सिंह व फायरिंग के लिए रविंद्र सिंह एवं चैंपियनशिप बैनर के लिए सूबेदार भगवान सिंह ई कंपनी को सम्मानित किया गया। सभी पुरस्कार परेड के निरीक्षण अधिकारी ब्रिगेडियर हरमीत सिंह के हाथों प्रदान किए गए।