प्यार के मामले में सबसे ज्यादा ‘भाग्यशाली’ होते हैं इन चार राशियों वाले जोड़े

- in जीवनशैली

अक्सर आपने सुना होगा कि जोड़ियाँ तो ऊपर वाला ही बनाता है और यह बात काफी हद तक सच भी है. हालांकि उपरवाला सिर्फ रोष्टों को बनाने का काम ही करता है उन रिश्तों को अच्छी तरह से चलाना तो हम इंसानों को ही पड़ता है. ऐसे में जरुरी है हमारे अन्दर एक दूसरे के प्रति समझ हो. जरुरी नहीं की समझ सिर्फ दो प्रेमियों के बीच ही होनी चाहिए, बल्कि रिश्ता चाहें माँ-बाप का हो भाई-बहन का हो या दो प्रेमियों का हर रिश्ते में समझ का होना जरुरी होता है. तभी आपका रिश्ता अच्छे से चलता है.

पर बात जब वैवाहिक रिश्तों की आती है तो सबसे पहली चेज़ जो हम देखते हैं वो है लड़का और लड़की की राशि. आपको बता दें कि हर राशि एकल तत्व से प्रभावित होती है और इसी के अनुसार दूसरी राशि के प्रति उनमें समझ या अपनत्व की भावना आती है। आज  हम आपको राशियों की 4 जोड़ियों के बारे में बता रहे हैं जो एक-दूसरे की पूरक मानी जाती हैं। ज्योतिष शास्त्र की मानें तो स्वर्ग में बनकर आती हैं इनकी जोड़ियां, इसलिए इनमें एक-दूसरे के लिए बहुत अच्छी समझ और लगाव होता है। अगर इनकी जोड़ी बन गई तो ऐसे जोड़े दुनिया के कुछ सबसे भाग्यशाली लोगों में कहे जा सकते हैं।

तुला और वृश्चिक

इन दोनों ही राशियों के लोग बेहद ऊर्जावान होते हैं। इनके सफल रिश्ते की एक बड़ी वजह यह भी होती है। तुला राशि वालों की गहरी चाहत होती है कि उनका पार्टनर अपनी हर बात के लिए उनपर निर्भर रहे और वृश्चिक राशि वाले एक ऐसा पार्टनर चाहते हैं जो उनकी हर बात की परवाह करे। हालांकि इन दोनों ही राशियों की अपनी खास पसंदगी होती है, फिर भी ये एक-दूसरे के प्रति आकर्षित होते हैं।

मीन और कर्क

सभी 12 राशियों में इन दोनों की जोड़ी एक दूसरे के लिए सबसे अधिक पागल होती है। व्यक्तिगत तौर पर ये दोनों ना सिर्फ भावुक होते हैं बल्कि इनकी सिक्स सेंस भी बहुत अच्छी होती है। इन समानताओं के कारण ये दूसरे के प्रति बहुत जल्दी और बहुत अधिक आकर्षित होते हैं। जितना अधिक ये एक-दूसरे को समझते हैं और एक-दूसरे के प्रति जुनूनी होते हैं ऐसा प्यार किसी और जोड़ी में नहीं दिखता। ये ऐसी जोड़ी है जिन्हें चाहे कितनी भी मुश्किलों और अभावों में डाल दिया जाए, एक-दूजे के लिए इनका प्यार कभी कम नहीं होता।

धनु और मेष

इन दो राशियों के बीच आकर्षण इतना गहरा होता है कि अगर ये एक-दूसरे के प्यार में पड़ जाएं तो इन्हें कोई अलग नहीं कर सकता। बिना कुछ कहे भी ये एक-दूसरे को इतनी अच्छी तरह समझ सकते हैं जैसे एक दूसरे का दिमाग पढ़ सकते हों। चाहे वह किसी मुद्दे पर बहस करनी हो, घूमने जाना हो या कोई भी और बात, ये हर तरह से एक-दूसरे को पूरा करते हैं। इनके रिश्ते की शुरुआत तो पहले दोस्ती से होती है लेकिन आखिरकार जब ये एक-दूसरे के प्यार में पड़ते हैं तो मरते दम तक साथ नहीं छोड़ते।

वृष और कन्या

ये दो राशियां ऐसी हैं जो एक-दूसरे के लिए पूरक होती हैं। यह इतना अधिक होता है कि गलत नहीं होगा अगर कहें ‘इनकी जोड़ी स्वर्ग में बनकर आती है’। ये ना सिर्फ एक-दूसरे के प्रति गहरा आकर्षण रखते हैं बल्कि एक-दूसरे की भावनाओं का भी बहुत खयाल रखते हैं। ज्योतिष शास्त्र की मानें तो व्यक्तिगत जीवन में यह एकमात्र जोड़ी है जो सपनों की दुनिया में ना जीकर पूरी तरह व्यावहारिकता के साथ एक-दूसरे का साथ निभाती है।