फ्लाइट का स्टेटस पूछना पड़ा महंगा, ‘बम है’ समझकर किया गिरफ्तार

- in महाराष्ट्र

फोन पर यदि आप बात कर रहे हैं तो ‘बॉम-डेल’ जैसे संक्षिप्त शब्दों का इस्तेमाल करने से बचना चाहिए। खासतौर पर उन लोगों को जो हवाई सफर कर रहे हैं। दरअसल, मुंबई-दिल्ली फ्लाइट का स्टेटस पता कर रहे एक यात्री को इस शब्द का इस्तेमाल गलतफहमी की वजह से महंगा पड़ गया।  फ्लाइट का स्टेटस पूछना पड़ा महंगा, 'बम है' समझकर किया गिरफ्तार

 सीईओ विनोद मूरजानी (45) को अपनी पत्नी और बच्चों समेत मुंबई से दिल्ली जाना था और फिर एयर इंडिया के जरिए उन्हें दिल्ली से रोम की यात्रा करनी थी। हालांकि, मौसम की वजह से रविवार को उड़ान में देरी हो गई। इसकी वजह से मूरजानी ने परेशान होकर मुंबई इंटरनैशनल एयरपोर्ट लिमिटेड (एमआईएएल) के टॉल-फ्री नंबर पर तकरीबन 2 बजकर 30 मिनट पर फोन किया। 

जानिए क्या था मामला? 
भारतीय मूल के यूएस नागरिक मूरजानी के मुताबिक, जब कॉल कनेक्ट हुई तो उन्होंने ऑपरेटर से ‘बॉम-डेल स्टेटस’ यानी मुंबई-दिल्ली रूट का स्टेटस पूछा। उस ओर से ऑपरेटर ने इस बात का मतलब जानने की कोशिश की। इसके बाद मूरजानी ने फोन काट दिया। ऑपरेटर की मानें तो उन्होंने सुना कि मूरजानी ने कहा है कि ‘बम है’ और मूरजानी ने बिना कुछ आगे बताए फोन काट दिया, जिसकी वजह से उनका शक बढ़ गया। 

मूरजानी पर लगा यह आरोप 
दो घंटे बाद शाम लगभग साढ़े 4 बजे कॉल करने वाला शख्स, उनकी पत्नी और बच्चे दिल्ली की फ्लाइट से उतार लिया गया। पुलिस की ओर से कोर्ट में दिए गए बयान में कहा गया है कि मूरजानी ने शेड्यूल को बिगाड़ने के इरादे से बम होने की अफवाह फैलाई ताकि उन्हें देर रात दिल्ली से रोम के लिए फ्लाइट मिल सके क्योंकि उन्हें दिल्ली पहुंचने में देर हो रही थी। 

सीसीटीवी से की गई जांच 
सूत्रों के मुताबिक, जांचकर्ताओं ने एयरपोर्ट परिसर में लगे सीसीटीवी फुटेज के जरिए यह पता लगाया कि जहां टेलिफोन बूथ रखे हुए हैं वहां मूरजानी ने एक बूथ से तकरीबन 2:30 बजे एक इमर्जेंसी नंबर पर कॉल किया था। सहार पुलिस स्टेशन की सीनियर इंस्पेक्टर लता शिरसत ने बताया कि उन्होंने यूएस नागरिक मूरजानी को गिरफ्तार किया है, जिन्होंने कॉल करके अफवाह फैलाई थी। इसके अलावा उन्होंने अन्य जानकारी देने से इनकार कर दिया। 

मूरजानी को मिली जमानत 
रविवार शाम साढ़े 6 बजे मूरजानी को गिरफ्तार किया गया और उन्हें सोमवार को अंधेरी कोर्ट में पेश किया गया, जहां पर उन्हें 15 हजार रुपये के मुचलके पर जमानत मिल गई। मूरजानी पर आईपीसी की धारा 505 (1) (बी) और 506 (II) के तहत मामला दर्ज किया गया। 

टाइम्स ऑफ इंडिया को एक सूत्र के जरिए इस बात का पता चला है कि मूरजानी के वकील ने कोर्ट में कहा कि उनके क्लायंट का उद्देश्य ऐसा नहीं था कि वह अफवाह फैलाएं बल्कि कंट्रोल रूम में मौजूद महिला ने उनकी बात का गलत अर्थ समझा है। मूरजानी ने बताया कि उन्होंने कॉल करके फ्लाइट कोड बताया जिससे वह स्टेटस पता कर सकें। हालांकि, ऑपरेटर उनकी बात को नहीं सुन पाई। सूत्रों का कहना है कि मूरजानी इस बात को लेकर काफी परेशान थे कि लगातार रद्द हो रही फ्लाइट की वजह से कहीं ऐसा न हो कि वह रोम जाने वाली फ्लाइट में समय से न पहुंच सकें। मूरजानी कुछ दिनों पहले ही अपने दोस्तों से मिलने मुंबई आए थे और वह रोम होते हुए यूएस वापस लौटने की तैयारी कर रहे थे।