बीवी की 13वीं पर पति ने अपनी दोनों बेटियों साथ किया कुछ ऐसा कि पड़ोसी के भी रह गये सन्न

- in राष्ट्रीय

दोस्तों परिवार में लड़ाई झगड़े होना आम बात हैं. लेकिन कई बार ये झगड़े इतने बढ़ जाते हैं कि लोग गुस्से में आकर बहुत बड़ा कदम उठा लेते हैं. उनके उठाए इस कदम से पलभर में पूरा परिवार तहस नहस हो जाता हैं. इसी कड़ी में हरियाणा के जींद से हाल ही में एक ऐसा मामला सामने आया हैं जिसने सभी को सर से लेकर पाँव तक हिला के रख दिया हैं. यहाँ 50 वर्षीय महेश नाम के एक शख्स ने अपनी बीवी राजबाला की 13वीं पर एक ऐसा कांड कर दिया हैं कि उसके दोनों बेटे और आस पड़ोसीयों के होश उड़ गए. दरअसल महेश की पत्नी राजबाला ने जहर खाकर आत्महत्या कर ली थी. इसके बाद से ही महेश काफी दुखी था जिसके बाद रविवार सुबह 10 बजे अपनी बीवी की 13वीं पर उसने अपने दोनों बेटों को घर से बाहर निकाल दिया और दोनो बेटियों को कमरे में लेजाकर एक बहुत बड़ा कदम उठा लिया. बीवी की 13वीं पर पति ने अपनी दोनों बेटियों साथ किया कुछ ऐसा कि पड़ोसी के भी रह गये सन्न

जानकारी के मुताबिक ये पूरी घटना हरियाणा के जींद की हैं. यहाँ 50 वर्षीय महेश अपनी बीवी राजबाला के साथ रहता था. उसके इस परिवार में बीवी के अलावा दो बेटियां और दो बेटे भी हैं. बड़ी बेटी काजल 16 साल की है और 11वीं क्लास में पढ़ती हैं. जबकि छोटी बेटी 14 साल की हैं और 9वीं क्लास में पढ़ती हैं. वहीँ महेश के दोनों बेटे नौ वर्षीय आर्यन और सात वर्षीय इशांत भी हैं. कुछ दिनों पहले महेश और राजबाला का किसी बात को लेकर बहुत बड़ा झगड़ा हो गया था. इस झगड़े से परेशान होकर राजबाला ने जहर खा के खुदखुशी कर ली थी.

पत्नी की मौत के बाद से ही महेश काफी परेशान रहने लगा था. ऐसे में जब उसकी बीवी की 13वीं का दिन आया तो वो बीवी के कपड़े और गहने आंगन मे रख जोर जोर से रोने लगे. हालाँकि जब लोगो ने समझाया तो वो किसी तरह शांत हुआ. इसके बाद जब सभी मेहमान चले गए तो उसने अपने दोनों बेटो को घर से बाहर निकाल दिया और दोनों बेटियों को कमरे में ले गया. यहाँ उसने पहले बेटियों जबरदस्ती सल्फास की गोलियां खिला दी. इसके बाद खुद भी इन गोलियों को खाकर आत्महत्या कर ली. जब दोनों बेटों को इस बात का पता चला तो उन्होंने हल्ला कर पड़ोसियों को बुलाया जिसके बाद इन तीनो को अस्पताल ले गया. अस्पताल पहुँचते ही डॉक्टर ने महेश को मृत घोषित कर दिया जबकि उसकी दोनों बेटियों की हालत गंभीर बनी हुई हैं.

उधर पुलिस को जब इस बात का पता चला तो वो अस्पताल पहुंची और महेश के शव को पोस्टमार्टम के लिए भिजवा दिया. इस पूरी घटना से महेश के दोनों बेटे काफी सदमे में हैं. मासूमों ने कुछ दिन पहले ही अपनी माँ को खोया था और अब पिता को भी खो दिया. इतना ही नहीं अब उनकी दोनों बहने भी अस्पताल में जिंदगी और मौत के बीच संघर्ष लड़ रही हैं. एक ही महीने के अन्दर उनका पूरा परिवार तहस नहस हो गया. ऐसे में उनकी देख रेख के लिए घर में कोई बड़ा भी नहीं बचा हैं. सच में ये घटना काफी दुखद हैं.