भारतीय लड़कियों से शादी कर विदेश भाग रहें है एनआरआई, युवतियों ने PM मोदी से मांगी मदद

- in राष्ट्रीय

बेहतर भविष्य के लिए एनआरआई युवकों के विवाह कर अपना सब कुछ खो चुकी और युवतियां न तो अपने परिवार की रही न ही ससुराल की। दरदर भटकने को मजबूर एनआरआई युवकों द्वारा तलाक और शादी के नाम पर धोखाधड़ी की शिकार पीड़ित महिलाओं ने अपने हक की लड़ाई में भारत सरकार के विदेश मंत्रालय से इस संबंध में कारगर कानून बनाने को लेकर जवाब मांगा है।

भारतीय लड़कियों से शादी कर विदेश भाग रहें है एनआरआई, युवतियों ने PM मोदी से मांगी मददअधिकतर मामलों में पति शादी के कुछ ही दिनों बाद विदेश फरार हो गए और पत्नियों को उनकी गैर मौजूदगी में ससुराल वालों ने घर से बाहर निकाल दिया। अपनी आवाज को अपना हथियार बनाने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों की महिलाएं एकजुट हो रही हैं। इन महिलाओं में कुछ ऐसी भी महिलाएं शामिल हैं जिन्हें भारतीय युवकों ने प्रताड़ित किया।

बेहतर भविष्य के सपने को लेकर एनआरआई युवकों से शादी करने के बाद धोखे का शिकार हुई 200 से अधिक महिलाओं की आवाज उठाते हुए प्रेस क्लब में सोमवार को प्रेसवार्ता आयोजित की गई। इस मौके पर पंजाब, उत्तर-प्रदेश, दिल्ली, बरेली, लखनऊ समेत अन्य जगहों की पीड़िताओं ने एनआरआई पतियों की घटिया करतूतों की दर्दभरी कहानी बयां की।

इस मौके पर पंजाब को सोशल एक्टिविस्ट हरप्रीत कौर ने बताया गया अकेले पंजाब में एनआरआई महिलाओं से शादी करने के बाद उन्हें धोखे से छोड़कर फरार होने और धोखे से विदेशों की अदालतों से एक पक्षीय तलाक लेने से जुड़ी 27 हजार शिकायतें दर्ज हुई हैं, लेकिन इन शिकायत पर पुलिस ने अभी तक क्या कार्रवाई की, इसका किसी के पास कोई जवाब नहीं है। वहीं एनआरआई युवकों और उनके परिवारों द्वारा प्रताड़ित महिलाओं ने विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को कई बार शिकायतें दीं, लेकिन उनका कोई उत्तर नहीं मिला।

लखनऊ की जुबी जैदी ने बताया कि एनआरआई युवकों द्वारा तलाक और धोखा देने के मामले में विदेश मंत्रालय के हस्तक्षेप से आरोपियों के खिलाफ कानूनी कार्रवाई की मांग को लेकर 3228 व शिकायतें दर्ज हुईं, लेकिन मंत्रालय ने कितनी शिकायतों को सुलझाया, इसका कोई ब्यौरा नहीं है। पीड़िताओं ने मांग की कि दहेज के लिए मासूम लड़कियों की जिन्दगीसे खिलवाड़ करने वाले एनआरआई युवकों के खिलाफ ठोस कदम बनाया जाए, ताकि उन्हें विदेशों से भारत लाकर उन्हें सजा दी जा सके।

शादी के नाम पर मामा ने भांजी को बेचा

लखनऊ की रहने वाली जुबी जैदी ने बताया कि उनकी शादी उनके मामा ने बेहतर भविष्य की बाते कहकर यूएई निवासी सयेद अली मुर्तजा से 10 अप्रैल 2014 को करवाई थी, लेकिन शादी के बाद उन्हें पता लगा कि उनका पति पहले से शादीशुदा था और पहली शादी को 10 साल हो चुके थे। इसके बाद उनके साथ जानवरों से भी बद्तर सलूक किया गया।

उन्होंने कहा कि उनके साथ मारपीट की जाती थी। चार साल पहले उन्हें एक कमरे में तीन दिन के लिए कैद कर दिया गया और खाना भी नहीं दिया गया। इसी बीच घर के चौकीदार को उनपर दया आ गई और उसने उनकी वहां से भागने में मदद की। उसके बाद से चार सालों से स्थानीय पुलिस थाने से लेकर मंत्रालय तक के चक्कर काट चुकी हैं, लेकिन सरकार ने भी उनकी कोई मदद नहीं की। उन्होंने अपने पति के खिलाफ भारत सरकार से हस्तक्षेप की मांग की है। शादी से पहले वह डिप्टी रजिस्ट्रार के पद पर काम करी थीं। वह न्यान की मांग को लेकर चार सालों से सुषमा स्वराज से मिलने की कोशिश कर रही हैं, लेकिन उनकी शिकायत का कभी कोई जवाब नहीं दिया गया।

शादी डॉट कॉम के रिश्ते ने किया बर्बाद

दिल्ली निवासी शिवाली ने बताया कि 27 फरवरी 2017 को उनकी शादी हुई। इसके 40 दिन बाद उनका पति कनाडा चला गया और ससुराहल वाले उन्हें प्रताड़ित करने लगे। उन्होंने बताया कि 6 मार्च 2018 को उनके सुसराल वालों ने उन्हें धोखे से घर से बाहर निकाल दिया और वापस घर में घुसने नहीं दिया। उन्होंने बताया कि शादी डॉट कॉम के जरिए उनकी शादी हुई थी। शादी से पहले वह भी कनेडियन कंपनी में काम करती थीं।

विदेश ले जाने के लिए मांगा दहेज

दिल्ली निवासी पूनम ने बताया कि उनकी शादी नोएडा निवासी युवक से हुई थी। शादी के वक्त लड़की के परिजनों से 6 लाख रुपए कैश मांगा गया और उसके 40 दिन बाद पति कनाडा चला गया और ससुराल वालों ने उसे कनाडा भेजने के लिए उसके परिवार से फिर से रुपयों की मांग की। इसके बाद पीड़िता को घर से बाहर निकाल दिया गया। पीड़िता ने दिल्ली पुलिस में एफआईआर दर्ज करवा रखी है, लेकिन कोई कार्रवाई नहीं हुई।

फीजी की महिला को भारतीय ने दिया धोखा

फिजी निवासी नताशा ने बताया कि सात साल पहले वह बिजनेस के सिलसिले में फिजी से चांदनी चौक आई थी और उसी दौरान उसकी मुलाकात प्रताप सिंह से हुई थी। उसके बाद प्रताप सिंह ने उन्हें अपने प्यार के जाल में फंसाकर पांच सालों 47 लाख रुपए ले लिए और इसी बीच उन्हें पता लगा कि प्रताप दूसरी लड़कियों को भी शादी करने के झांसे दे रहा था। इस बाबत पीड़िता ने र्ईस्ट दिल्ली की डीसीपी नुपूर प्रसाद, एसीपी, और स्वाति मालीवाल समेल अन्य लोगों को शिकायते दीं हैं, लेकिन उनकी शिकायतों पर कोई जवाब नहीं दिया गया है। वह भारत के कानून व्यवस्था को लेकर बेहद आहत हैं और मांग कर रही हैं आरोपी के खिलाफ कार्रवाई की जाए। इस संबंध में उन्होंनें आरोपी के खिलाफ आनंद विहार थाने में दुष्कर्म की धाराओं समेत अन्य धाराओं के तहत एफआईआर भी दर्ज करवा रखी है, लेकिन आरोपी खुलेआम घूम रहा है।

कैलिफॉर्निया में लड़ रही हक की लड़ाई

एनआरआई से शादी करने के बाद जसमीत कौर को उसके पति ने कैनिफॉर्निया कानून के तहत तलाक देने की कोशिश की, लेकिन पीड़िता ने उसे रुकवा दिया। अब पीड़िता कैलिफॉर्निया में रहकर अपने पति के खिलाफ केस लड़ रही है। आरोपी ने पीड़िता के 10 वर्षीय बेटे को भी छीन लिया है। पीड़िता का परिवार बरेली का है और यहां उसके हक की लड़ाई के लिए विदेश मंत्रालय से उचित कार्रवाई की मांग कर रहा है।