मंदिर तोड़कर बनाया जा रहा था पुल इसलिये हुआ हादसा : राजबब्बर

उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष राजबब्बर ने कहा कि वाराणसी में विश्वनाथ मंदिर तोड़कर पुल का निर्माण किया जा रहा था, जिसके चलते यह हादसा हुआ। बब्बर के इस बयान के बाद राजनीतिक सरगर्मियां बढ़ गयाी हैं। गौरतलब है कि वाराणसी में मंगलवार शाम दर्दनाक हादसे में निर्माणाधीन पुल का एक हिस्सा गिर गया। इस हादसे में 18 लोगों की जान गई और कम से कम 11 लोग घायल हुए हैं। यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ ने एक हाईलेवल जांच कमेटी तय की है। राज बब्बर ने बताया, जब अस्पताल पहुंचे तो वहां के लोगों ने बताया कि इस पुल को पूरा करने के लिए तीन मंदिर तोड़ने पड़े थे, वहां के लोगों का मानना था कि यह मंदिर तोड़ने की गलती की सजा थी। यह पुल चौकघाट से लहरतारा को जोड़ता है। बब्बर ने कहा, ‘फ्लाइओवर का निर्माण पूरा करने के लिए तीन विनायक मंदिर तोड़ा गया और लोगों का मानना है कि यह उसकी सजा है। वहीँ पुलिस ने इस मामले में दफा 304, 308 और 427 के तहत रिपोर्ट दर्ज करके मामले की जांच कर रही है, ये मामले पुल बना रही सरकारी कंपनी यूपी स्टेट ब्रिज कॉरपोरेशन लिमिटेड के खिलाफ किए गए हैं। 1710 मीटर लंबे इस पुल का निर्माण कार्य 1 अक्टूबर 2015 में शुरू हुआ था, तब अखिलशे यादव सीएम थे और इसके लिए 77.41 करोड़ रुपए का आवंटन किया था।