महिला उपजिलाधिकारी को फैक्ट्री मालिकों ने बनाया बंधक


नई दिल्ली : अवैध फैक्ट्री चलाने वालों के हौंसले इतने बुलंद हो चुके हैं कि उन्होंने अदालत में ही नरेला की महिला एसडीएम को धमकी दे डाली। उनकी चेतावनी थी कि उनकी फैक्ट्रियों की सील तुरंत खोली जाए, वरना एसडीएम को कोर्ट में ही बंधक बना लिया जाएगा। इस मसले की शिकायत पुलिस में दर्ज करा दी गई है। एसडीएम की सुरक्षा में इजाफा कर दिया गया है। पुलिस जांच में जुटी है। इस महिला एसडीएम पर पहले भी हमला हो चुका है। इस कांड में गिरफ्तारी भी हो चुकी है। मामला मंगलवार शाम नरेला एसडीएम कोर्ट का है। एसडीएम पूर्वा गर्ग (आईएएस) पूठखुर्द गांव में अवैध फैक्ट्रियों की सीलिंग को लेकर सुनवाई कर रही थी। वहां काफी संख्या में फैक्ट्रियों को सील किया जा चुका है। छह बजे के आसपास उन्होंने सुनवाई पूरी की और कहा कि अब इस मामले पर सोमवार को गौर होगा।

बताते हैं कि इतने में फैक्ट्री वालों ने वहां हंगामा शुरू कर दिया और कहा कि वे अपनी फैक्ट्रियों की सील खोलने के आदेश आज ही लेकर जाएंगे और इस मसले पर आज ही मैडम से मुलाकात करेंगे। इस पूरे मामले की लिखित शिकायत एसडीएम के पीएसओ अमित गुप्ता ने थाना शाहबाद डेरी में दर्ज कराई है। उनका कहना है कि उनकी फैक्ट्री की सील आज ही खुलेगी या मैडम आज घर नहीं जा सकेंगी। पीएसओ का कहना है कि हंगामा करने वाले 40 से 50 लोग थे। आरोप है कि इन लोगों ने एसडीएम के ड्राइवर को भी धमकी दी। इस मसले पर कोर्ट में काफी देर तक हंगामा हुआ। जिसके बाद पीएसओ ने पीसीआर बुला ली और वहां पहुंचे पुलिस वालों को लिखित में शिकायत दर्ज कराई। बताते हैं कि बड़ी मुश्किल से एसडीएम को अदालत ने निकालकर उनके घर पहुंचाया गया।

इस मसले पर शाहबाद डेरी के थानाध्यक्ष देवेंद्र यादव का कहना है कि मामले की जांच की जा रही है। उसके बाद उचित कार्यवाही की जाएगी। वैसे कल की घटना के बाद एसडीएम की पुलिस सुरक्षा में इजाफा कर दिया गया है। गौरतलब है कि कुछ दिन पूर्व भी सीलिंग को लेकर बवाना इलाके में पूर्वा गर्ग पर महिलाओं ने हमला कर दिया था। जिसके बाद एफआईआर दर्ज की गई और तीन महिलाओं को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया।