मुंह की दुर्गंध दूर करने के बेहद आसान उपाय

- in जीवनशैली

आपने अक्सर लोगों को मुंह पर हाथ रखकर बात करते हुए देखा होगा. ज्यादातर लोग अपनी सांस की बदबू को छुपाने के लिए ऐसा करते हैं. इसके अलावा कई बार कोई हमारे पास आकर कुछ कहता है तो हम मुंह बिचका लेते हैं क्योंकि उसके मुंह से बदबू आ रही होती है. सांस की बदबू वाले इंसान से लोग दूर भागते हैं. आइए जानते हैं मुंह की दुर्गंध को दूर करने के बेदह आसान उपाय…मुंह की दुर्गंध दूर करने के बेहद आसान उपाय

मुंह की सफाई का ठीक से ख्याल ना रखने और खान-पान की गलत आदतों की वजह से मुंह से बदबू आने लगती है. मुंह से आने वाली बदबू को हैलीटोसिस कहा जाता है.
 
सांस की बदबू का कारण अक्सर जीभ, दांतों और मसूड़ों पर जमे बैक्टीरिया के प्लाक के कारण आती है. जीभ को रोज साफ करना चाहिए.

जब भी हम कुछ खाते हैं तो मुंह में रहने वाले बैक्टीरिया लार के साथ मिलकर भोजन और प्रोटीन को तोड़ते हैं. इस विघटन की प्रक्रिया में जो गैस मुक्त होती है, वही सांस की बदबू का कारण बनती है.

दांतों पर ब्रश, जीभ की सफाई के लिए धातु या प्लास्टिक की पट्टी और डेंटल फ्लॉस मिलाकर पूरा टूल सेट बनता है. इसके अलावा माउथवॉश का इस्तेमाल भी किया जा सकता है.

कुछ खाने पर अगर दांतों के बीच दरार में फंसने की जगह हो, तो सफाई का और भी ज्यादा ख्याल रखना चाहिए. कुछ भी खाने के बाद कुल्ला जरूर करें और सुबह-शाम दांतों को अच्छी तरह ब्रश करें.

ड्राई माउथ या जेरोस्टोमिया कही जाने वाली बीमारी में लार के बहाव पर असर पड़ता है. लार की कमी के कारण मुंह में ज्यादा बैक्टीरिया पनप सकते हैं और दुर्गंध का कारण बन सकते हैं. कई लोगों में नाक के बजाए मुंह से सांस लेने की आदत से भी ऐसा होता है.

अगर आपके घरेलू उपायों से दुर्गंध ना थमे तो डॉक्टर के पास जाने में देर नहीं करनी चाहिए. कई बार सांसों की बदबू किसी बीमारी का संकेत भी होती है.

छोटी उम्र से ही बच्चों में दांतों की सफाई की आदतें डालनी चाहिए. दांतों में टॉफी, चॉकलेट या किसी अन्य मीठे खाने की शुगर के फंसे रह जाने से उसमें कीड़े लगने जैसी समस्या बच्चों में ज्यादा होती है.

अगर घर से बाहर हैं और ब्रश करने जैसे उपाय नहीं किये जा सकते हैं तो तुरंत मदद के लिए चूईंग गम पास रखें. इसकी तेज महक से मुंह की बदबू दब जाती है और लार के साथ मिलकर सुगंध पैदा होती है.

ताजे फल और सब्जियां खाने से दांत और मसूड़े स्वस्थ बनते हैं इसलिए भोजन में इनकी मात्रा बढ़ाएं. पेट साफ रखें और दिन में कम से कम 10 गिलास पानी पीने की कोशिश करें.