मॉरीशस में शुरू हुआ ‘विश्व हिंदी सम्मेलन’, याद किए गए ‘अटल’

पहला विश्व हिंदी सम्मेलन नागपुर में 1975 में हुआ था


पोर्ट लुइस : 11वां विश्व हिंदी सम्मेलन मॉरीशस में शुरू हो चुका है। इस कार्यक्रम में मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवीण कुमार जुगनुथ और भारत की विदेश मंत्री सुषमा स्वराज सहित कई नेताओं ने मिलकर भारत रत्न अटल बिहारी वाजपेयी को याद किया। पूर्व प्रधानमंत्री और हिंदी प्रेमी श्री अटल बिहारी वाजपेयी को भावभीनी श्रद्धांजलि! दो मिनट का मौन और दिवंगत आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना। सभी नेताओं ने मिलकर भारत के पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी को श्रद्धांजलि अर्पित की। अटल बिहारी अपने भाषणों के कारण विदशी धरती पर भी काफी प्रसिद्ध रहे हैं। 11वां विश्व हिंदी सम्मेलन मॉरीशस में 18 से 20 अगस्त चलेगा। इस बार सम्मेलन का विषय ‘हिंदी विश्व और भारतीय संस्कृति’ है। इसमें शामिल हो रही विदेश मंत्री ने वहां की तस्वीर ट्वीट कर लिखा है अभूतपूर्व उत्साह। इस सम्मेलन में पंजीकरण के समय खत्म होने तक कुल 1422 प्रतिभागियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करायी है। यह सभी उपस्थिति वेबसाइट के द्वारा की गई है। यह कार्यक्रम मॉरीशस के पोर्ट लुईस में हो रहा है। यहां देश और विदेश से हिंदी प्रेमी इसमें भाग लेने के लिए मॉरीशस पधार पहुंच रहे हैं। विदेश मंत्रालय के अधिकारी रवीश कुमार ने भी इस कार्यक्रम के बारे में ट्वीट कर लोगों का हिंदी के प्रति उत्साह दर्शाया साथ ही सरकार का शुक्रिया अदा किया। पहला विश्व हिंदी सम्मेलन नागपुर में 1975 में हुआ था। इसके बाद से विश्व के अलग-अलग जगहों पर यह आयोजित किया जा रहा है।