मोदी सरकार की एक और योजना, किश्त पर देगी इंडक्शन चूल्हा

नई दिल्ली: मोदी सरकर का एक और तोहफा, गैस के बढ़ते दामों को मद्देनजर रखते हुए सरकार ने एक और कदम उठाया है। लोगों को क़िस्त पर इंडक्शन वाला चूल्हा देने का प्रोफार्मा रेडी किया है। बढ़ती रसोई गैस की कीमतों से जहां आम जनता परेशान है वहीं मोदी सरकार ने लोगों के लिए खाना पकाने का एक नया विकल्प तलाश लिया है। बीते काफी समय से महंगाई पर जनता की नाराजगी का सामना कर रही मोदी सरकार अब इंडक्शन कुकर देने की तैयारी में है। उज्जवला योजना की तर्ज पर मोदी सरकार परिवारों को किश्त पर इंडक्शन चूल्हा उपलब्ध कराएगी। यह चूल्हे लोगों को आसान किस्तों पर दिए जाएंगे। इसके लिए ऊर्जा मंत्रालय को प्रस्ताव भी भेज दिया गया है। मोदी सरकार द्वारा शहरी और ग्रामीण क्षेत्रों में रह रहे लोगों को चूल्हे दिए जाएंगे। यह योजना सरकार की पिछली उज्जवला योजना की तर्ज पर होगी। जिन परिवारों को यह चूल्हे मिलेंगे उन्हें सालाना 1500 रुपए की बचत होगी। चूल्हा लेने वाले परिवार को इसकी किस्त हर माह बिजली बिल के साथ जमा करनी होगी। इसके लिए एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड द्वारा ऊर्जा मंत्रालय को प्रस्ताव भी भेजा जा चुका है। परिवारों को दिए जाने वाले सिंगल चूल्हे की कीमत 800 रुपए के करीब होगी। जबकि 1500 रुपए की कीमत में डबल इंडक्शन वाला चूल्हा मिलेगा। अनुमान के मुताबिक सामान्य परिवार में इंडक्शन से खाना बनाने में करीब 100 यूनिट बिजली हर महीने खर्च होगी। वहीं रसोई में इस्तेमाल होने वाला सिलेंडर की कीमत 850 से ज्यादा है। जो एक महीने भी नहीं चल पाता। बता दें कि, सौभाग्य योजना के माध्यम से सरकार घर-घर बिजली पहुंचा रही है। सरकार अगले कुछ साल में देश के हर घर को 24 घंटे बिजली देने की तैयारी में है। गौरतलब है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के ग्रामीण व शहरी क्षेत्रों के सभी घरों तक बिजली पहुंचाने के लिए ‘सौभाग्य’ योजना की शुरुआत की है। नरेंद्र मोदी ने जनसंघ नेता दीनदयाल उपाध्याय की जयंती पर इस महत्वपूर्ण योजना की घोषणा की है। इस योजना के तहत साल 2011 के सामाजिक आर्थिक और जाति जनगणना में दर्ज गरीबों को बिजली का कनेक्शन मुफ्त में मिलेगा। वहीं जिनका नाम जनगणना में आ पाया था वह भी 500 रुपये में बिजली का कनेक्शन हासिल कर सकेंगे।