मोदी सरकार के दबाव पर ममता ने बंगाल में घटाई पेट्रोल-डीजल की कीमत

भारत बंद को लेकर एक साथ आईं विपक्ष की 21 राजनीतिक पार्टियों का प्रयास बेशक ज्यादा असरदार नहीं रहा लेकिन कई राज्य सरकारों ने पेट्रोल-डीजल की कीमत कम कर केंद्र पर दबाव बनाने शुरू कर दिया है। आंध्र प्रदेश और राजस्थान के बाद अब पश्चिम बंगाल में ममता बनर्जी ने भी पेट्रोल-डीजल की कीमत में एक रुपये की कटौती की है। सोमवार 10 सितंबर से दिल्ली समेत देश के कई हिस्सों में विरोध प्रदर्शन देखने को मिला था। छिटपुट घटना के बीच अपने राज्य में पेट्रोल-डीजल की कीमत कम करने की कवायद आंध्र प्रदेश सरकार ने कल ही कर दी थी। इसके एक दिन पहले ही राजस्थान सरकार द्वारा भी पेट्रोल-डीजल की कीमत कम कर दी गई थी।
वहीं आज मंगलवार को ममता सरकार ने भी पश्चिम बंगाल में जनता को महंगाई से राहत देते हुए यहां पेट्रोल-डीजल एक रुपये प्रति लीटर सस्ता कर दिया है। बता दें कि पश्चिम बंगाल में पेट्रोल की कीमत में एक रुपये की कटौती के बाद अब यहां पेट्रोल की कीमत 82.84 रु/लीटर हो गई है। वहीं डीजल के दाम में एक रुपये कम होने के बाद इसकी कीमत 74.9 रु/लीटर हो गई है।

याद दिला दें कि ममता की तृणमूल सरकार कांग्रेस द्वारा आयोजित इस भारत बंद का हिस्सा नहीं थी। कांग्रेस के प्रस्ताव से अलग हटकर सरकार ने राज्य में महंगाई के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया था। सोमवार यानी कल ही बंगाल यातायात कंपनी बंग्लाश्री कॉर्प ने अपने बस के किराए में भी कटौती की थी। बंग्लाश्री बस सेवा का शुभारंभ जल्द हुआ है जिसे मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने पिछले महीने ही हरी झंडी दी है।
ऐसे में जब केंद्र सरकार विपक्ष के विरोधों का सामना कर रही है और पेट्रोल-डीजल की कीमतों में लगातार इजाफा हो रहा है। राज्य सरकारों द्वारा अपनी जनता के लिए कम की गई पेट्रोल-डीजल की कीमत से निश्चित तौर पर मोदी सरकार पर दबाव बनना तय है। देखना है कि राज्य स्तर पर पेट्रोल-डीजल या फिर महंगाई को कम करने के लिए कौन सा राज्य सामने आता है।