यहां टीचर बनने के लिए लड़कियों को देना पड़ता है कोमार्य टेस्ट

- in अजब-गजब

हर इंसान की इच्छा होती है कि वह एक अच्छी सी सरकारी नौकरी करे। जिसके चलते वह रात दिन पढ़ाई करते रहते है। लेकिन बावजूद इसके लोगों का नंबर नहीं आता है। किसी भी सरकारी नौकरी के लिए परीक्षार्थियों से कठीन से कठीन सवाल पूछे जाते है। लेकिन आज हम आपको एक ऐसे देश के बारे में बता रहे है। जहां पर शिक्षक बनने के लिए महिलाओं को अलग तरह का टेस्ट देना पड़ता है।

दोस्तों ब्राजील की सबसे भीड़-भाड़ वाली सिटी साउ पोलो में इसका ट्रेंड चला हुआ है। जहां पर शिक्षक भर्ती के दौरन महिलाओं से पूछा जाता है कि क्या वह वर्जिन है। खबरों के अनुसार बताया जा रहा है कि यहां पर वर्जिन लड़कियों की बहुत अधिक डिमांड है। इसी के चलते टीचर बनने के लिए बेतुकी सी लगने वाली ये कंडीशन लगाई जाती है।

जो औरतों के लिए परेशानी का सबब बन रही है। हालांकि यहां पर महिलाएं अपना खुद ही टेस्ट करवाकर सर्टिफिकेट प्राप्त कर रही है। जिससे उन्हें सबके सामने होनें वाली परेशानी से बचना पड़ सके। साउ पोलो के ज्यादातर पब्लिक सेक्टर वर्करों को जब नौकरी दी जाती है तो उन्हें एक लंबे वक्त के लिए रखा जाता है।

यहां पर नौकरी देने के लिए इंसान को करीब 25 सालों के लिए रखा जाता है। इसके लिए नौकरी का आवेदन करने वाले इंसान को इस बात का सर्टिफिकेट देना पड़ता है कि वह पूरी तरह से फीट है।
वहीं इसी के साथ इस तरह का टेस्ट भी करवाया जाता है जिसमें यह पूछा जाता है कि क्या नौकरी का आवेदन करने वाला किसी बड़ी बीमारी से ग्रसित तो नहीं है। उसके बाद ही उसका आवेदन किया जाता है.