ये है ‘रोबो पंडित’, चुटकी बजाते ही हल कर देगा आपकी बड़ी से बड़ी मुश्किल

- in अजब-गजब

पूजा, अनुष्ठान विवाह या किसी के मरणोपरांत कराए जाने वाले विधी कार्यक्रमों में पंडित की आवश्यकता होती है। आज के समय में ऐसे पंडित कम ही मिलेंगे जो सही-सही शास्त्रों का ज्ञान रखते हों। इसलिए पंडित जी कार्यक्रम में पूजा पाठ की विधी जल्दबाजी में निपटाने की कोशिश करते हैं।

लेकिन अब पंडित जी की जगह लेने आ गया है ‘रोबो पंडित’, चौंकिए मत ये पूरी इमानदारी से आपके कार्यक्रमों को पूजा कराएगा। तो क्या अब पोंगा-पाखंडियों की छुट्टी कर देगा ये ‘रोबो पंडित’ जानिए हमारी इस रिपोर्ट में… 

वो कहावत हैं ना ‘आवश्यकता ही अविष्कार की जननी है।’ जापाना में कुछ ऐसा ही हुआ। आज के समय वहां एक अच्छा पुजारी मिलना मुश्किल हो गया है। बस फिर क्या था.. एक रोबों पंडित तैयार कर दिया गया। इस रोबो पंडित की खासियत है कि यह मंत्रों का सही-सही उच्चारण कर लेता है। इसके अलावा ये आपके साथ बिल्कुल इमानदार रहेगा। 

टोक्यो में जब ‘Pepper’ नामक इस रोबोट को दुनिया के सामने लाया गया तो सब इसे देखकर हैरान रह गए। रोबो पंडित ड्रम बजाते हुए सही-सही मंत्रों का उच्चारण करता है। उसने बिना गलती किए जापान में होने वाली बौद्धिक विधि में अंतिम संस्कार विधि के मंत्र पढ़कर दिखाए। रोबो पंडित अन्य पुजारियों से बेहद संस्ते में आपके लिए काम करेगा। बताते हैं कि ये वहां के पंडितों से 20 प्रतिशत कम रेट पर काम करता है।  

इसे ‘nisseieco’नामक कंपनी ने बनाया है। कंपनी के एग्जिक्युटिव एडवाइडर  ‘Michio Inamura’ कहते हैं जापान में धर्म के प्रति लोगों के घटते इंटरेस्ट को बढ़ाने में ये रोबोट वाकयी बेहतर काम करेगा। बहुत से पुजारी पार्ट टाइम जॉब के रूप में इस पूजा विधि का काम करते हैं। ऐसे में पूजा विधि में गड़बड़ी सामने आती है। ये पेशवर पंडित पैसे बनाने के लिए ज्यादा से ज्यादा मौके तलाशते हैं। इस वजह से ये कार्यक्रमों में कुछ मंत्र पढ़कर विधि समाप्त कर देते हैं। जबकि ये रोबो पूरी रात आपको बुद्ध सूत्र पढ़कर सुनाने की क्षमता रखता है। वाकयी ये रोबो पंडित बेमिसाल है। 

Michio आगे जोड़ते हुए कहते अगर ऐसा ही रहा तो 2040 तक जापान में 40 % बोद्ध मंदिर बंद हो जाएंगे। ऐसे बहुत से लोग हैं जिन्होंने पूजा-पाठ करना ही बंद कर दिया है।

​इधर एक बोद्ध पुजारी ‘Tetsui Matsuo’ कहते हैं मुझे इस रोबोट में विश्वास है। भले ही ये एक मशीन हो लेकिन इसे बनाने वाली कंपनी के चेतन पर भरोसा किया जा सकता है। वो लोगों को अध्यात्म की ओर अग्रसर करना चाहती है।