ये है वनडे में 9 हैट्रिक बनाने वाली दुनिया की एकमात्र टीम

- in खेल

मित्रो आपका हमारे न्यूज़ पोर्टल में स्‍वागत है। आपको बता दें कि खेल जगत में हैट्रिक का बहुत बड़ा महत्‍व माना गया है। वैसे तो इस खेल की दुनिया में ऐसे ऐसे खिलाड़ी है, जो अपने खतरनाक खेल अभिनय के चलते लोगो में काफी चर्चा विषय बने रहते है। इसी क्रम में आज हम कुछ ऐसे खिलाडि़यों के संबंध में बात करने वाले है, जो हैट्रिक बनाकर अपनी एक अलग पहचान बनाई है।
आपकी जानकारी के लिये बता दें कि इस खेल की दुनिया में सबसे पहले 1982 में पड़ोसी देश पाकिस्‍तान के जलालुद्दीन ने ऑस्‍ट्रेलिया के खिलाफ वनडे मुकाबले में लगातार तीन गेदों पर तीन बल्‍लेबाजों को पवेलियन भेजकर एकदिवसीय क्रिकेट में ऐसा रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज कर लिया था। वहीं आज हम एक ऐसी टीम की बात कर रहे है, जो वनडे के दौरान 9 हैट्रिक बनाने का काम किया है, दुनिया की एकमात्र मात्र ऐसी टीम है। देखे उसका क्रम जो कुछ इस प्रकार से है…..

पहला : बांग्लोदश के गेंदबाज 5 बार वनडे में हैट्रिक बना चुके है, सबसे पहले यह कारनामा शहादत हुसैन ने 2006 में किया था, आखिरी मर्तबा तस्कीन ने 2017 में यह कारनामा किया है।

दूसरा : विश्व चैम्पियन ऑस्‍ट्रेलिया लिस्ट में तीसरे पायदान पर है, कंगारू टीम के 6 गेंदबाज हैट्रिक बना चुके है, सबसे पहले 1986 में ब्रुस रेड ने यह कारनामा किया था।

तीसरा : वनडे में पाकिस्तान की टीम के सबसे ज्यादा गेंदबाजो ने यह कारनामा किया है, पाक के 6 गेंदबाजो ने 8 हैट्रिक ली है, इसमें वसीम अकरम और सकलैन मुश्ताक के नाम दो – दो मर्तबा हैट्रिक बनाने का रिकॉर्ड है।

चौथा : वनडे क्रिकेट में सबसे ज्यादा हैट्रिक श्रीलंका के गेंदबाजो ने बनाई है, श्रीलंका की ओर से सबसे पहली हैट्रिक 2001 में चमिंडा वास ने जिम्बावे के खिलाफ बनाई थी, अब तक कुल 9 मर्तबा श्रीलंकाई गेंदबाजो ने हैट्रिक ली है, इसमें चमिंडा वास ने 2 और लसिथ मलिंगा ने 3 बार यह कारनामा किया है।
पांचवा : इंग्‍लैड के 4 गेंदबाज हैट्रिक बनाने का कारनामा कर चुके है, पहली हैट्रिक बनाने वाले इंग्लिश गेंदबाज जेम्स एंडरसन है, जिन्होने 2003 में यह कारनामा किया था।
उपरोक्‍त के अतिरिक्‍त भारत और दक्षिण अफ्रीका संयुक्त रूप से छठे पायदान पर है, दोनो ही टीमो के गेंदबाजो के द्वारा अब तक 3 – 6 हैट्रिक लगाई गई है,वहीं 2-2 हैट्रिक के साथ न्यूजीलैण्ड, जिम्बावे और वेस्टइंडीज की टीमें सातवे पायदान पर स्थित है।