रावण संहिता के अनुसार धन पाने के लिए करें ये पांच उपाय

- in अद्धयात्म

आज हम रावण संहिता के बारे में आपको बताएंगे। रावण संहिता में हमारे जीवन से जुड़े तमाम मुद्दों पर बात की गई है। इसमें ढेरों ऐसे उपाय बताए गए हैं जो हमारी कई समस्याओं का हल निकालने का दावा करते हैं। धन की कमी की समस्या से तकरीबन हर कोई परेशान रहता है। ऐसे में आज हम आपको बताएंगे कि धन प्राप्ति के लिए रावण संहिता के अनुसार कौन से पांच उपाय करने चाहिए।

रावण संहिता के अनुसार धन पाने के लिए करें ये पांच उपाय1. आप किसी भी शुभ दिन सूर्योदय से पहले जग जाएं। इसके बाद किसी वट वृक्ष के नीचे चमड़े का आसन बिछाएं। अब आप धन प्राप्ति मंत्र का जाप करें। इस धन मंत्र का जाप लगातार 21 दिन तक करने के लिए कहा गया है। धन मंत्र इस प्रकार से है- ऊं ह्रीं श्रीं क्लीं नम: ध्व: स्वाहा।

2. एक अन्य उपाय में प्रतिदिन 108 बार धन प्राप्ति मंत्र का जाप करने के लिए कहा गया है। इसे लगातार 40 दिन तक अपने घर पर करना होता है। इसके लिए मंत्र हैं- ऊं सरस्वती ईश्ववरी भगवती माता क्रां क्लीं, श्रीं, श्रीं मम धनं देहि फट् स्वाहा।

3. रात में विधि-विधान से मां लक्ष्मी का पूजन करें। इसके बाद सो जाएं और सुबह में जल्दी ऊठकर 108 बार मंत्र का जाप करें। इससे चारों दिशाओं से धन आने की मान्यता है। इसके लिए मंत्र है- ऊं नमों भगवती पद्म पदमावी ऊं ह्रीं ऊं ऊं पूर्वाय दक्षिणाय उत्तराय आष पूरय सर्वजन वश्य कुरु कुरु स्वाहा।

4. तीन महीने तक रोजाना 108 बार मंत्र का जाप करें। इससे जीवन में कभी भी धन की कमी नहीं होने की मान्यता है। मंत्र है- ऊँ यक्षाय कुबेराय वैश्रवाणाय धन धन्याधिपतये धान्य समृद्धि मे देहि दापय स्वाहा।

5. रावण संहिता के अनुसार बिल्वपत्र और बिजौरा नींबू को बकरी के दूध से पीसें। अब इस मिश्रण का तिलक लगाएं। कहते हैं कि इससे व्यक्ति का आकर्षण बढ़ता है। वह अपने जीवन में काफी आगे जाता है और खूब सारा धन कमाता है।