रिपोर्ट लिखाने गये व्यापारी को पुलिस ने जेल में डाला

लखनऊ : सुधरने का नाम नहीं ले रही है प्रदेश पुलिस। पत्नी की गुमशुदगी की फरियाद लेकर थाने पहुंचे कपड़ा व्यापारी पर पीजीआई पुलिस ने कहर बरपाया। पुलिस ने व्यापारी को लात-घूंसों से पीटने के बाद उसे हवालात में डाल दिया। पुलिस का यह रूप देख व्यापारी का 10 वर्षीय बेटा बिलख कर रोने लगा। आननफानन में व्यापारी के खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा डालने का पुलिस ने मुकदमा भी दर्ज कर लिया। हालांकि व्यापारी की मानसिक हालत बिगड़ती देख पुलिस ने उसे निजी मुचलके पर रिहा कर दिया। पुलिस ने उसकी पत्नी की गुमशुदगी की रिपोर्ट भी दर्ज की।

पुलिस के अनुसार राजा थाने में हंगामा कर रहा था। उसने तोड़फोड़ करने का भी प्रयास किया। इसलिए उसके खिलाफ सरकारी कार्य में बाधा पहुंचाने का मुकदमा दर्ज किया गया। उसके साथ मारपीट करने की बात गलत है। राजा की तहरीर पर उसकी पत्नी फूल जहां की गुमशुदगी के सम्बंध में भी रिपोर्ट दर्ज की गई है। जांच में पता चला है कि वह सीतापुर में अपनी खाला के घर पर है। फूल जहां ने फोन पर बताया है कि पति राजा ने उसे पीटा था जिसके चलते वह चली गई। चौकी इंचार्ज अरुण मिश्रा ने उसे कार्यालय ले जाकर दोबारा पीटा। पिता को मार खाते देख शान मोहम्मद पुलिस कर्मियों के सामने गिड़गिड़ाने लगा। उसने पुलिस से उसके पिता को छोड़ने की मिन्नतें की लेकिन पुलिस ने उसकी एक नहीं सुनी। पिता को बचाने के लिए शान मोहम्मद उनसे लिपट गया। इस पर पुलिस कर्मियों ने बच्चे को खींचकर बाहर कर दिया। राजा ने बताया कि पिटाई के बाद पुलिस ने उसे हवालात में डाल दिया और उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया। 10 वर्षीय शान लगातार पुलिस के सामने गुहार लगाता रहा। उसने कहा कि अंकल! मम्मी घर पर नहीं हैं, अगर पापा को जेल में डाल देंगे तो हम लोगों का क्या होगा। बच्चे के काफी कहने पर पुलिस ने तीन घंटे बाद राजा को हवालात से बाहर निकाला और निजी मुचलके पर रिहा कर दिया।

तेलीबाग निवासी मोहम्मद राजा की एसकेएफ शॉपिंग कॉम्पलेक्स में टिपटॉप नाम से रेडीमेड गारमेंट्स की दुकान है। परिवार में पत्नी फूल जहां, बेटी अलिफ्शा (14), बेटा शान मोहम्मद (10) व फिरदौस (6) हैं। राजा ने बताया कि उसकी पत्नी फूल जहां 5 अप्रैल की दोपहर 3 बजे से लापता है। राजा का आरोप है कि वह एक हफ्ते से प्रार्थना पत्र लेकर पीजीआई कोतवाली के चक्कर लगा रहा है लेकिन कोई सुनवाई नहीं हुई। जबकि उसने पुलिस को पत्नी को जान का खतरा होने की बात भी बताई। राजा ने बताया कि गुरुवार दोपहर वह अपनी फरियाद लेकर पीजीआई कोतवाली आया था। वह बेटे शान मोहम्मद को साथ लेकर इंस्पेक्टर रवीन्द्र नाथ राय के कमरे में गया और उनसे मुकदमा दर्ज करके कार्रवाई करने की गुहार लगाई। राजा का आरोप है कि वह पूरी बात कह भी नहीं पाया था कि इंस्पेक्टर अपनी कुर्सी से उठ खड़े हुए और उसे पीटने लगे। इंस्पेक्टर ने उसे जमीन पर पटक दिया और लातों से पीटा। इसके बाद चौकी इंचार्ज अरुण कुमार मिश्रा को बुलाकर उनके हवाले कर दिया।