रोमांचक और अद्भुत हैं अरुणाचल प्रदेश की वादियां

ईंटानगर : देश का सुहाना राज्य अरुणाचल प्रदेश का सफर करना सुंदर, रोमांच और अद्भुत अनुभवों से भरा रहेगा। असम, सिक्किम, अरुणाचल, नगालैंड, त्रिपुरा, मेघालय और मणिपुर में घूमना बहुत ही अद्भुत है। भारत के ये पूर्वोत्तर राज्य अपने आप में प्राकृतिक खूबसूरती को समेटे हुए हैं। यहां के ऊंचे-ऊंचे पहाड़ देखने लायक हैं। पहाड़ों की सुंदरता को देखना है तो पूर्वोत्तर राज्यों का दौरा जरूर करना चाहिए।
पूर्वोत्तर के ये राज्य मौसम, मिजाज और संस्कृति एक अलग ही नजारा पेश करते हैं। 7 राज्यों के इस हरे-भरे व खूबसूरत पूर्वोत्तर के सफर पर जरूर जाएं। पूर्वोत्तर के राज्यों में पर्यटन के लिए सबसे अच्छी बात यह है कि एक बार टूर पर निकलकर पूरे पूर्वोत्तर की सैर की जा सकती है। अरुणाचल की ऊंची-ऊंची चोटियों से नीचे गिरते झरने दुनिया के सबसे खूबसूरत झरने हैं। विशेषकर गोरिचन और कांगटो की चोटियों को देखना गजब का अनुभव और अहसास देता है। बल खाती सर्पीली पहाड़ी नदी कामेंग में एडवेंचर टूरिज्म के शौकीनों के लिए एक आदर्श स्थान साबित हो सकता है। वहीँ अरूणाचल प्रदेश की राजधानी ईटानगर बहुत ही खूबसूरत है। यह हिमालय की तराई में बसा हुआ शहर है।

ईटानगर की खोज मायापुर के साथ हुई थी। मायापुर 11वीं शताब्दी में जित्रि वंश की राजधानी थी। अगर आप यहां घूमने के लिए आते हैं तो आप इन जगहों पर जा सकते हैं। यहां पर किले का निर्माण 14-15वीं शताब्दी में किया गया था। इस किले के नाम पर ही इसका नाम ईंटानगर रखा गया है। ईंटानगर से लगभग 6 किमी. की दूरी पर गंगा झील स्थित है। यहां आने वाले पर्यटक पहले इस झील में स्नान करते हैं और बाद में यहां पास ही में स्थित जंगल में घूमने के लिए जाते हैं। यह जंगल बहुत ही खूबसूरत है, इस जंगल में सुंदर पेड़-पौधे, वन्य जीव और फूलों के बगीचे पर्यटकों को बहुत पसंद आते हैं। ईटानगर में एक बहुत ही सुंदर बौद्ध मंदिर है, बौद्ध गुरू दलाई लामा भी इसकी यात्रा कर चुके हैं। इस मंदिर की छत पीली है और इस मंदिर को तिब्बती शैली में बनाया गया है। इस मंदिर की छत से पूरे ईटानगर के खूबसूरत दृश्य देखे जा सकते हैं। इस मंदिर में जवाहर लाल नेहरू संग्राहलय है। यहां पर पर्यटकों को पूरे अरूणाचल प्रदेश की झलक देखने को मिलती है। लकड़ियों से बनी खूबसूरत वस्तुएं, वाद्ययंत्र, शानदार कपड़े, हस्तनिर्मित वस्तुएं और केन की बनी सुंदर कलाकृतियां पर्यटकों को अपनी ओर आकर्षित करती हैं। ईटानगर से 20 किमी. की दूरी पर पापुम पेर स्थित है। पापुम पेर हिमालय की तराई में बसा हुआ है। इस कारण पर्यटक यहां पर अनेक चोटियों को देख सकते हैं।