वित्तविहीन शिक्षकों ने कटोरा लेकर मांगी भीख, मुंडवाए सिर


लखनऊ : राजधानी में मानदेय की मांग कर रहे वित्तविहीन शिक्षकों ने टीचर्स डे के मौके पर गांधी प्रतिमा के सामने धरना-प्रदर्शन करने के साथ ही कटोरा लेकर भीख मांगा और अपने बाल भी मुंडवाए। बाल मुंडवाने वालों में महिला शिक्षिकाएं भी शामिल रहीं। इसके बाद मौके पर पहुंचे पुलिस बल ने सभी शिक्षकों को हिरासत में लेकर ईको गार्डन ले जाकर छोड़ा। इस दौरान शिक्षकों और पुलिस के बीच जमकर धक्का-मुक्की हुई। गौरतलब है कि वित्तविहीन शिक्षक मंगलवार से ही राजधानी में डेरा जमाए थे। शिक्षक दिवस को भिक्षक दिवस के रूप में मनाते हुए शिक्षकों ने गांधी प्रतिमा के पास हाथ में कटोरा लेकर भीख मांगी।

हालात बिगड़ते देख पुलिस ने बल प्रयोग कर सबको हटाया। वित्तविहीन शिक्षकों ने बताया कि उनको सपा कार्यकाल में 800 से 1 हजार रुपये प्रतिमाह मानदेय मिलता था। बीजेपी ने चुनाव के पहले वादा किया था कि सरकार आने पर उनको अधिक मानदेय दिया जाएगा। लेकिन सरकार बनने के बाद मानदेय बढ़ाना तो दूर, पहले से मिल रहा मानदेय भी बंद कर दिया गया। कई बार उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा ने मानदेय बढ़ाने का आश्वासन दिया, लेकिन शासनादेश लागू नहीं किया गया। उधर, शिक्षकों के विरोध प्रदर्शन पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि आज कुछ लोग बिना योग्यता के नौकरी पाना चाहते हैं। हमने कुछ लोगों को सिर मुंडवाकर कर प्रदर्शन करते हुए देखा, सरकार शिक्षकों की भर्ती कर रही है चाहते हैं कि योग्य लोग इस पेशे में आएं।