श्रद्धांजलि देने पहुंचे अग्निवेश से धक्कामुक्की, फिर शुरू हुयी राजनीति

नई दिल्ली : दीन दयाल उपाध्याय मार्ग, स्थित भाजपा के राष्ट्रीय मुख्यालय में “पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी” के पार्थिव शरीर का अंतिम दर्शन करने पहुंचे, स्वामी अग्निवेश व उनके दो साथियों के साथ वहां मौजूद कुछ लोगों द्वारा धक्का मुक्की करने का मामला सामने आया है। अग्निवेश के साथ आए बंधुआ मुक्ति मोर्चा के ,”प्रो. विट्ठल राव आर्य” ने इस बात को नई दिल्ली के “डीसीपी मधुर वर्मा” को पत्र लिखकर भाजपा मुख्यालय में मारपीट करने का आरोप लगाते हुए, आरोपित कार्यकर्ताओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने व कार्रवाई करने की मांग की है।

डीसीपी ने शिकायत संसद मार्ग थाना पुलिस को सौंप कर जांच करने को कहा है। शिकायत में विट्ठल ने आरोप लगाते हुए कहा है, कि सुबह 11.30 से 12 बजे के बीच जब वह स्वामी अग्निवेश व विष्णु पॉल के साथ भाजपा मुख्यालय पहुंचे तब कुछ महिला व पुरुषों ने तीनों के साथ धक्का मुक्की शुरू कर दी। कुछ लोगों ने स्वामी अग्निवेश को गद्दार बताते हुए, वापस चले जाने की बात कहीं| उन्हें पार्थिव शरीर का दर्शन करने नहीं दिया गया। धक्का देते हुए उन्हें बाहर निकाल दिया गया। तब पुलिसकर्मियों ने उनकी जान बचाई। विट्ठल ने पुलिस से अग्निवेश को सुरक्षा प्रदान करने की मांग की है।
इससे पहले 17 जुलाई को स्वामी अग्निवेश की झारखंड के पाकुड़ में मुस्कान पैलेस होटल के सामने भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने जमकर पिटाई की थी। कार्यकर्ता पाकिस्तान व ईसाई मिशनरी के दलाल स्वामी गो बैक के नारे लगा रहे थे। स्वामी अग्निवेश लिट्टीपाड़ा में पहाड़िया हिल एसेंबली के दामिन दिवस समारोह में भाग लेने आए थे। दोपहर करीब एक बजे स्वामी अग्निवेश समर्थकों के साथ दामिन दिवस समारोह में शामिल होने के लिए जब होटल से बाहर निकले, तो पहले से काला झंडा दिखाने को तैयार करीब दो दर्जन भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ता अचानक उत्तेजित हो गए। अचानक कार्यकर्ताओं ने उन पर हमला बोल दिया। उनको खींचकर जमीन पर गिरा दिया। इसके बाद लाठी, डंडा, जूता चप्पल जो मिला उसका प्रयोग किया। इन लोगों की भरदम पिटाई से स्वामी अग्निवेश के समर्थक भी भौचके से थे। बाद में कुछ समर्थकों ने किसी प्रकार अग्निवेश को वहां निकाला। उन्हें होटल के अंदर ले गए, जहां प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के चिकित्सक डॉ. समरूल ने उनका इलाज किया था।