संयुक्त राष्ट्र परिषद की चर्चा में चीन की हुई कड़ी आलोचना

चीन में शी जिनपिंग सरकार भले ही मुस्लिमों को हिरासत में लेकर उनके विचार परिवर्तन के आरोपों को नकार रही हो, लेकिन अब पश्चिमी चीन में सैकड़ों उइगर मुस्लिमों को एक ट्रेनिंग कैंप में हिरासत में लिया गया है। अपने इस कदम के लिए चीन को आलोचना का सामना करना पड़ रहा है। मंगलवार को हुई संयक्त राष्ट्र की समीक्षा में मानवाधिकार रिकॉर्ड को लेकर चीन की आलोचना की गई है।

संयुक्त राष्ट्र परिषद की चर्चा में चीन की हुई कड़ी आलोचना

दुनिया के कई देशों ने उइगरों की सामूहिक हिरासत और नागरिक स्वतंत्रता के खिलाफ कार्रवाई पर चिंता व्यक्त की है। जिनेवा में हुई  संयुक्त राष्ट्र परिषद की चर्चा के दौरान कई देशों ने इस मुद्दे पर नाराजगी दिखाई। वहीं चर्चा के दौरान करीब 500 लोगों ने संयुक्त राष्ट्र के बाहर प्रदर्शन भी किया। प्रदर्शनकारियों ने हाथों में बैनर लिए हुए थे, जिनपर लिखा था, ‘चीन, उइगरों का नरसंहार रोको’ और ‘तिब्बत मर रहा है, चीन झूठ बोल रहा है।’

संयुक्त राष्ट्र ने हाल ही में एक रिपोर्ट जारी की है, जिसमें कहा गया है कि करीब 10 लाख उइगर और अन्य अल्पसंख्यक मुस्लिमों को हिरासत में लिया गया है। कार्यकर्ताओं का कहना है कि अल्पसंख्यक मुस्लिमों को दाढ़ी रखने और हिजाब पहनने के कारण बिना वजह हिरासत में लिया गया है। बता दें कि ‘यूनीवर्सल पिरियोडिक रीव्यू’ में सभी 193 देशों को हर चार साल पर जाना होता है।