सपा की कन्नौज सियासत पर ‘जयचंद’ कहीं निकाल न दे हवा

उत्तर प्रदेश का कन्नौज इत्र नगरी के साथ-साथ सियासी तौर पर भी देश भर में पहचाना जाता है. कन्नौज से सांसद बनने के बाद तीन कद्दावर नेताओं ने मुख्यमंत्री पद तक का सफर तय किया है. मौजूदा दौर में कन्नौज संसदीय सीट समाजवादी पार्टी की सबसे मजबूत सीटों में से एक है. इस सीट पर फिलहाल सपा प्रमुख अखिलेश यादव की पत्नी डिंपल यादव का कब्जा है. 2014 में मोदी लहर के बावजूद बीजेपी यहां कमल नहीं खिला सकी थी.

राजा जयचंद के दौर में कभी उत्तर भारत की राजधानी रहा कन्नौज आजकल उत्तर प्रदेश की राजनीति का केंद्रबिंदु है. कई दशक तक कांग्रेस के हाथ के साथ रहने वाली कन्नौज की जनता पिछले 21 सालों से साइकिल पर सवार है. एक बार समाजवादी पार्टी ने डिंपल यादव को यहां से उम्मीदवार बनाया है. हालांकि, पहले अखिलेश यादव ने कहा था कि डिंपल चुनाव नहीं लड़ेंगी, जिसके बाद उनके खुद यहां से लड़ने की चर्चा की थी.

कन्नौज के तीन सांसद सीएम

कन्नौज से लोकसभा चुनाव जीतकर सांसद बनने वाले तीन कद्दावर नेता मुख्यमंत्री बने. 1994 में सांसद बनीं शीला दीक्षित दिल्ली की तीन बार मुख्यमंत्री रही तो वहीं नब्बे के दशक में 1999 में जीते मुलायम सिंह यादव और 21वीं सदी की शुरुआत में चुने गए अखिलेश यादव यूपी के मुख्यमंत्री रहे.

कन्नौज का सियासी इतिहास

आजादी के बाद 1952 में पहली बार हुए चुनाव में कन्नौज लोकसभा सीट से कांग्रेस के उम्मीदवार शंभूनाथ मिश्रा ने जीत दर्ज करके बाजी मारी. इसके बाद 1957 में वो दोबारा चुने गए और साल 1962 में मूलचंद्र दुबे, लेकिन 1963 में शंभूनाथ मिश्रा एक बार फिर सांसद बने. 15 साल तक कांग्रेस की तूती बोलती रही, जिस पर समाजवादी विचारधारा के जनक डॉ. राम मनोहर लोहिया ने ब्रेक लगाया और 1967 के चुनाव में कांग्रेस के शंभूनाथ को करारी मात देकर वह संसद बनें.

हालांकि 1971 में कांग्रेस ने एक बार फिर से जीत हासिल की, लेकिन 1977 में जनता पार्टी के रामप्रकाश त्रिपाठी, 1980 में छोटे सिंह यादव जीते. 1984 में शीला दीक्षित ने कन्नौज से चुनावी मैदान में उतरकर कांग्रेस की इस सीट पर वापसी कराई. 1989 और 1991 में छोटे सिंह यादव ने लोकदल का झंडा बुलंद करते हुए जीत हासिल की.

6 लोकसभा चुनाव से सपा का कब्जा

बता दें कि कन्नौज सीट पर 1996 में बीजेपी चंद्रभूषण सिंह (मुन्नू बाबू) ने पहली बार कमल खिलाकर भगवा ध्वज फहराया, लेकिन दो साल बाद 1998 के चुनाव में प्रदीप यादव ने बीजेपी से यह सीट छीनी और उसके बाद से लगातार हुए 6 चुनाव से यह सीट सपा की झोली में है. 1999 में सपा के तत्कालीन मुखिया मुलायम सिंह यादव जीते, लेकिन उन्होंने बाद में इस्तीफा दे दिया.

इसके बाद अखिलेश यादव ने अपनी सियासी पारी का आगाज कन्नौज संसदीय सीट पर 2000 में हुए उपचुनाव से किया. इसके बाद अखिलेश यादव ने 2004, 2009 में लगातार जीत कर उन्होंने पहली बार हैट्रिक लगाकर इतिहास रचा, लेकिन 2012 में यूपी के सीएम बनने के बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया. जिसके बाद उनकी पत्नी डिंपल यादव निर्विरोध चुनकर लोकसभा पहुंचीं.

2014 के सियासी नतीजे

सपा की डिंपल यादव को 4,89,164 वोट मिले

बीजेपी के सुब्रत पाठक को 4,69,257 वोट मिले

बसपा के निर्मल तिवारी को 1,27,785 वोट मिले

कन्नौज के पांच में से चार बीजेपी विधायक

कन्नौज संसदीय सीट के तीन जिलों की पांच विधानसभा सीटों से बनी है. इनमें कन्नौज जिले के तीन विधानसभा क्षेत्र कन्नौज, तिरवा और छिबरामऊ शामिल हैं. इसके अलावा कानपुर देहात की रसूलाबाद और औरेया जिले की बिधूना विधानसभा सीट कन्नौज लोकसभा सीट का हिस्सा है. 2017 के विधानसभा चुनाव में इन पांच में से चार सीट पर बीजेपी और महज एक पर सपा जीती थी. सपा ने अपनी एकमात्र सीट भी महज 2400 वोटों से जीती.

विधानसभा चुनाव के हिसाब से देखा जाए तो सपा के दुर्ग कहे जाने वाले कन्नौज में बीजेपी ने जबर्दस्त सेंधमारी कर दी है. इतना ही नहीं 2014 के ही लोकसभा चुनाव में डिंपल को जीतने के लिए लोहे के चने चबाने पड़े थे. इसके बाद ही कहीं जाकर वो 19 हजार 907 वोट से जीत हासिल कर पाईं.