सशस्त्र बलों के दिग्गजों के साथ नियमित रूप से बात करेंगे राजनाथ

नई दिल्ली : रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि सरकार सशस्त्र बलों के दिग्गजों के साथ नियमित रूप से बातचीत करेगी और उनके मुद्दों पर पूर्ण समर्पण से काम करेगी। आज भूतपूर्व सैनिकों के एक संगठन ‘वेटरंस इंडियाÓ द्वारा आयोजित कारगिल विजय दिवस के अवसर उन्होंने कहा कि मैं आपके लिए काम करूंगा। मुझे विश्वास है कि हम सफल होंगे। रक्षा मंत्री ने कारगिल और इससे पहले हुए युद्धों के दौरान भारतीय सैनिकों द्वारा दिखाई गई वीरता, युद्ध और बलिदान की भावना की प्रशंसा की।

20 जुलाई, 2019 को द्रास की अपनी यात्रा का उल्लेख करते हुए उन्होंने कारगिल युद्ध के दौरान बहादुर सिपाहियों द्वारा किए गए अदम्य साहस और सर्वोच्च बलिदान की कहानियों का स्मरण करते हुए कहा कि हमारे बहादुर सिपाहियों ने सभी बाधाओं को पार करते हुए दुश्मन के साथ बहादुरी से लड़ाई करते हुए एक के बाद एक पर्वत चोटी को अपने कब्जे में किया। वे डरना नहीं जानते थे और उन्होंने देश की सेवा करते हुए मौत को गले लगा लिया। देश इन बहादुर सपूतों के सम्मान में सिर झुकाता है। पद ग्रहण करने के तुरंत बाद सियाचीन की अपनी यात्रा के बारे में राजनाथ सिंह ने कहा कि भारतीय सैनिक निर्णय लेने की प्रक्रिया के केन्द्र में बना रहेगा। बालाकोट हमलों के बाद सशस्त्र बलों में देश का विश्वास और गर्व बढ़ा है। रक्षा मंत्री ने इस अवसर पर शहीद जवानों के परिवार जनों को भी सम्मानित किया।