सांसद लॉर्ड एलेक्जेंडर कार्लिली को भारत ने एयरपोर्ट से ही वापस भेजा


नई दिल्ली : भारत ने ब्रिटिश सांसद लॉर्ड एलेक्जेंडर कार्लिली को एयरपोर्ट से ही वापस भेज दिया है। ब्रिटेन के शीर्ष वकीलों में से एक लॉर्ड एलेक्जेंडर का विमान बुधवार की सुबह दिल्ली एयरपोर्ट पर उतरा था, लेकिन उन्हें भारत में प्रवेश नहीं करने दिया गया और एयरपोर्ट से ही वापस उनके देश लौटा दिया गया। मालूम हो कि लॉर्ड एलेक्जेंडर बांग्लादेश की पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा जिया के कानूनी सलाहकार हैं। खालिदा इस वक्त ढाका की जेल में बंद हैं। ज्ञात हो कि तीन बार प्रधानमंत्री रह चुकीं 72 वर्षीय खालिदा जिया को इसी साल फरवरी में पांच साल कैद की सजा सुनाई गई थी। यह सजा ‘जिया ऑर्फनेज ट्रस्ट’ को दिए जाने वाले ढाई लाख डॉलर विदेशी चंदे के गबन से जुड़े मामले में दी गई थी। इसी मामले को लेकर लॉर्ड एलेक्जेंडर बुधवार को दिल्ली आए थे, जहां उनके लिए एक प्रेस कॉन्फ्रेंस का आयोजन किया गया था। इस प्रेस कॉन्फ्रेंस में वो खालिदा जिया पर लगाए गए आरोपों के बारे में अंतरराष्ट्रीय मीडिया को बताने वाले थे।

लॉर्ड एलेक्जेंडर पर ये कार्रवाई उनके अमान्य वीजा को लेकर की गई है। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि भारत में उनकी इच्छित गतिविधि उनके वीजा आवेदन में उल्लिखित यात्रा के उद्देश्य से असंगत थी। इसलिए उनके आगमन पर भारत में प्रवेश करने से इंकार कर दिया गया। गौरतलब है कि एक वकील के नाते लॉर्ड एलेक्जेंडर को ढाका में प्रवेश की अनुमति नहीं है। इसीलिए वो भारत में प्रेस कॉन्फ्रेंस करना चाहते थे ताकि खालिदा जिया केस की जटिलताओं के बारे में अंतरराष्ट्रीय मीडिया समुदाय को रूबरू करा सकें। गौरतलब है कि पूर्व प्रधानमंत्री खालिदा ज़िया के खिलाफ तीन दर्जन आपराधिक मामले दर्ज हैं। इस मामले में बांग्लादेश नेशनलिस्ट पार्टी का कहना है कि उन्हें और उनके परिवार को राजनीति से बाहर रखने के लिए एक साजिश की गई है और इसी साजिश के तहत उन्हें जेल में बंद कर दिया गया है।