साढ़े चार सौ वर्ष के बाद खोला अक्षयवट, राम मंदिर का भी होगा निर्माण: मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ

- in TOP NEWS, उत्तर प्रदेश

प्रयागराज। साढ़े चार सौ वर्ष से जिस तरह से किले में बंद पौराणिक अक्षयवट को आज मैंने श्रद्धालुओं के लिए खोला। ठीक वैसे ही राम मंदिर का निर्माण भी मैं ही कराऊंगा। उक्त बातें मुख्यमंत्री योगी आदित्य नाथ ने गुरुवार को सेक्टर सोलह में स्थित हंसदेवा चार्य के शिविर में प्रवचन के उद्घाटन समारोह में संतों एवं श्रद्धालुओं को संबोधित करते हुए कहा। उन्होंने कहा कि पौराणिक अक्षयवट का श्रद्धालु दर्शन करेंगे, इससे प्रयाग का ही नहीं पूरे भारत का गौरव बढ़ा है। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी कुंभ को दिव्य व भव्य बनाने के लिए लगातार प्रयास कर रहे हैं। वे उत्तर प्रदेश की जनता के लिए कई महत्वपूर्ण कार्य कर रहे हैं। पौराणिक अक्षयवट को खोलने से पर्यटन का विकास होगा और विश्व के विभिन्न देशों से श्रद्धालु व दर्शक आएंगे। लोगों का रोजगार भी बढ़ेगा।

प्रधानमंत्री के प्रयास से कुंभ को यूएसए में मान्यता मिली। इससे उत्तर प्रदेश का ही नहीं पूरे भारत वर्ष का सम्मान बढ़ने के साथ ही यहां रहने वाले सभी धर्म के मानने वालों का सम्मान बढ़ा है। उन्होंने प्रयागराज कुंभ आए संतों, समाजसेवी संस्थाओं और प्रयागवासियों से अपील की कि कुंभ मेले में आने वाले श्रद्धालुओं का ऐसा स्वागत करें कि वापस जाएं तो प्रयागवासियों के साथ पूरे देश ही नहीं विश्व में भी गौरव गाथा करते रहें। उद्घाटन अवसर पर अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष नरेन्द्र गिरी ने कहा कि कुंभ क्षेत्र में काम करने वाले अधिकारी व कर्मचारी सदैव सन्तो की लगातार सेवा कर रहें है। चैबीस घंटे संतो एवं श्रद्धालुओं की सेवा में लगे हुए है। देश में नहीं बनने पाएगी बाबरी मस्जिद: हंसदेवाचार्य जगद्गुरू रामानन्दाचार्य हंसदेवा चार्य ने कहा कि कुम्भ मेला हो या फिर माघ मेला लोग दस रुपये के पंचाग को देखकर सदियों से यहां पुण्य अर्जित करने के लिए आते रहें है।

लेकिन देश के प्रधानमंत्री ने कुंभ मेले का वैभव बढ़ाने के लिए कई करोड़ रुपये दिए। जिसका उदाहरण कुंभ क्षेत्र में ही नहीं पूरे प्रयागराज में दिख रहा है। चारों तरफ विकास ही विकास दिखाई दे रहा है। देश में मोदी और योगी दोनों ब्रम्हज्ञानी है। मेरे द्वारा दिए गए एक सुझाव को पूर्व न्यायाधीश गिरधर मालवीय जी ने आगे बढ़ाया जिसे आज देश के प्रधानमंत्री ने गंगा मिशन का स्वरूप दिया। अतिशीघ्र गंगा निर्मल हो जाएगी। जहां संत शक्ति एक जुट होती है उस देश का गौरव बहुत तेजी से आगे बढ़ता है। प्रयागराज में संत शक्ति एक जुट हो चुकी है और अब अयोध्या, मथुरा और काशी भी मिल जाएगा। उन्होंने कहा कि कितना भी अवरोध उत्पन्न हो अब राम मंदिर कोई रोक नहीं सकता। देश में अब कोई बाबरी मस्जिद नहीं बन पाएगी , हिन्दुस्तान की धरती पर सिर्फ राम मंदिर का निर्माण होगा। प्रदेश का मुख्यमंत्री संत है, अब राम मंदिर के निर्माण को कोई रोक नहीं पाएगा । इस अवसर पर बैष्णव के तीनों अनी अखाड़ों के श्री महन्तगण मोहनदास, गौरी शंकर दास जी महाराज, सुरेशदास जी महाराज, धरमदास जी महाराज, स्वामी जर्नादन हरि, ज्ञानदेव महाराज, पूर्व न्यायाधीश गिरधर मालवीय, राजेन्द्रदास जी महाराज, मोहनदास जी महाराज, रविन्द्रपुरी जी महाराज, मंत्री रीता बहुगुणा जोशी, विश्व हिन्दू परिषद के मंत्री पंकज सहित भाजपा के कई नेता उपस्थित रहे।