सीरियल धमाकों के 17 दोषी बापू के जीवन पर देंगे परीक्षा

- in संपादकीय

mahatma_gandhi_12_10_2016अहमदाबाद। 2008 के सीरियल ब्लास्ट के करीब 17 दोषी महात्मा गांधी के जीवन से बहुत प्रभावित होकर अब बापू के जीवन पर आयोजित होने वाली परीक्षा की तैयारी कर रहे हैं। अहमदाबाद की साबरमती सेंट्रल जेल में इन दिनों सीरियल ब्लास्ट से जुड़े करीब 50 दोषी सजा काट रहे हैं।

इनमें से 17 दोषी महात्मा गांधी के जीवन व आत्मकथा से जुड़ी एक परीक्षा में शामिल होने की तैयारी कर रहे हैं। इस परीक्षा के आयोजकों का कहना है कि इस परीक्षा में शामिल होने के लिए 2002 के दंगों के 100 आरोपियों ने कोई इच्छा नहीं जताई।

गौरतलब है कि महात्मा गांधी ने ‘नवजीवन ट्रस्ट’ की स्थापना की थी। यह ट्रस्ट अभी भी काम कर रहा है। ट्रस्ट ने साबरमती जेल के अधिकारियों के साथ एक अग्रीमेंट किया है, जिसके तहत ट्रस्ट जेल में कई कार्यक्रम चलाता है. जिससे वहां बंद कैदियों के पुनर्वास में मदद मिलती है।

ट्र्स्ट के अधिकारियों के मुताबिक कक्षा सातवीं तक पढ़े कैदी के लिए गांधी बापू प्राथमिक परीक्षा होगी, जबकि 10 वीं तक पढ़े कैदियों के लिए ‘मारी जीवन कथा’ नाम की परीक्षा आयोजित की जा रही है। इस परीक्षा के लिए नवजीवन ट्रस्ट को 649 आवेदन पत्र मिले हैं, जिसमें से 296 आवेदन जेल में बंद कैदियों के हैं।