स्टेट बैंक आॅफ इंडिया में बड़ा बदलाव, 1300 शाखाओं का नाम और कोड बदले


नई दिल्ली : भारतीय स्टेट बैंक ने अपने छह सहयोगी बैंकों का विलय करने के बाद देश में करीब 1300 बैंक शाखाओं के नाम और आइएफएस कोड में बदलाव किया है। बैंक ने इन शाखाओं के नए नाम और आइएफएस कोड की सूची जारी की है। एसबीआइ ने पिछले साल एक अप्रैल 2017 को छह सहयोगी बैंकों और भारतीय महिला बैंक का विलय किया था। इसके बाद बैंक का आकार और वैल्यूएशन बढ़ गयी। बैंक की वेबसाइट पर जारी सूची के अनुसार कुल 1295 शाखाओं का नाम और कोड बदला गया है। सूची में इन शाखाओं का पुराना और नया कोड दिया गया है। सहयोगी बैंकों का विलय करने के बाद एसबीआइ ने शाखाओं का तर्कसंगत पुनर्गठन किया था।

विलय के बाद परिसंपत्तियों के लिहाज से एसबीआइ दुनिया का 53वां सबसे बड़ा बैंक बन गया है। 30 जून 2018 को बैंक की कुल परिसंपत्तियां 33.45 लाख करोड़ रुपये की थीं। चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही की समाप्ति के समय डिपॉजिट, लोन, ग्राहक संख्या और शाखाओं के लिहाज से देश के सबसे बैंक एसबीआइ की कुल 22,428 शाखाएं थीं। डिपॉजिट के लिहाज से उसकी बाजार हिस्सेदारी 22.84 फीसद और लोन में हिस्सेदारी 19.92 फीसद थी। विलय के बाद बैंक ने शाखाओं की संख्या में 1805 की कमी की और 244 प्रशासनिक कार्यालयों को तर्कसंगत पुनर्गठन किया। पहले बैंक में करीब दो लाख कर्मचारी थे। विलय के बाद उसके कर्मचारियों की संख्या में करीब 71000 का इजाफा हुआ।