स्मृति ईरानी ने किया डिजिटल विलेज का शुभारंभ


अमेठी : केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने मुसाफिरखाना स्थित पिंडारा ठाकुर गांव डिजिटल विलेज का शुभारंभ और प्रधान डाकघर में भारतीय पोस्ट पेमेंट बैंक सेवा की शुरुआत की। इस मौके पर उन्होंने कहा कि नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सरकार सबके घर तक चल कर आई है। यही वजह है कि आज देश- विदेश में भारत का डंका बजाते हुए नरेंद्र मोदी की अगुवाई में विकास की वर्षा हुई है। उन्होंने कहा कि साढ़े चार साल से अमेठी ही मेरा धाम और मेरा मंदिर है इसलिए अमेठी मेरे लिए तीर्थ स्थान से कम नहीं है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि कॉमन सर्विस सेंटर से जनता को बहुत लाभ मिलता है। पहले पासपोर्ट बनवाने के लिए अफसरों के सामने खड़ा रहना पड़ता था, पासपोर्ट के लिए अब आपको गांव में स्थित सीएससी तक ही जाना होगा। सीएससी के माध्यम से अमेठी जिले में हर गांव के हर घर में एक व्यक्ति को कम्प्यूटर में शिक्षित किया जाएगा।

नरेंद्र मोदी के चलते आज सीएससी के माध्यम से 35 गांवों में वाईफाई की व्यवस्था कर दी गई है। साल के अंत तक हर ग्राम पंचायत में वाईफाई की व्यवस्था हो जाएगी। आज अमेठी का पिंडारा ठाकुर गांव डिजिटल गांव बन गया है। उन्होंने कहा कि 15 सितंबर से 685 पंचायतों को सीएससी की सुविधा उपलब्ध हो जाएंगी। 2014 में हमने जो कहा आज फिर कह रहे हैं, दिल्ली में हम उस व्यक्ति को फिर कुर्सी पर बैठे देखना चाहते हैं। इस सेवा के माध्यम से लोगों को खाता खुलवाने के लिए किसी प्रकार की कागजी कार्रवाई पूरी नहीं करनी पड़ेगी और अंगूठे के निशान के पैसा जमा और निकासी होगी। इससे पहले अमेठी के दौरे पर स्मृति ईरानी ने राहुल गाधी पर अमेठी की अनदेखी करने का आरोप लगाया था। स्मृति ने कहा कि राहुल यहां के सांसद हैं और यहां के लोगों की सुध तक लेने नहीं आते, उन्होंने कहा कि अमेठी का विकास मोदी सरकार ही कर सकती है। स्मृति ईरानी ने राहुल को चुनौती दी कि वह अमेठी दोबारा आएंगी।